online ठगी का शिकार छात्रा ने दी जान देने की कोशिश, नौकरी के नाम पर हुई थी ठगी का शिकार

खंडवा, डेस्क रिपोर्ट। ऑनलाइन नौकरी का लालच देकर ठगी का शिकार बनी छात्रा ने जान देने की कोशिश की है। मामला खंडवा का है, जहां आनलाइन नौकरी के नाम करीबन 1 लाख रुपये की ठगी का शिकार बनी छात्रा ने गुरुवार को 40 फीट ऊंचे रेलवे ओवर ब्रिज से कूदकर जान देने की कोशिश की। कक्षा 12वीं की छात्रा मनीषा यादव निवासी गांव पिपरी जिला अशोक नगर हाल मुकाम छोटी बोरगांव (खंडवा) की रहने वाली है।

यह भी पढ़े.. Mandu utsav: मांडू उत्सव का शानदार शुभारंभ

हादसा उस वक़्त हुआ जब छात्रा मां के साथ बैंक अधिकारियों के पास गुहार लगाने गई थी और अधिकारियों हाथ जोड़कर वह ऑनलाइन निकाले गए पैसे को वापस दिलवाने के निवेदन कर रही थी। अधिकारी छात्रा और उसकी मां से बात कर रहे थे लेकिन इस मामले में फिलहाल कुछ कर पाने में असमर्थता जता रहे थे, इसी बीच मां के साथ ही बैठी छात्रा ने मां को कुछ कहा और बैंक से बाहर निकल आई, छात्रा ने बैंक से बाहर आकर अपनी गाड़ी स्टार्ट की और बैंक से कुछ दूर बने रेलवे ओवर ब्रिज पर पहुंच गई छात्रा ने वही गाड़ी खड़ी की और देखते ही देखते छात्रा पुल से कूद गई। छात्रा के नीचे गिरते ही सनसनी फैल गई। उसे फौरन उठाकर लोग अस्पताल दौड़े। गंभीर हालत में पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती किया है। कोतवाली पुलिस ने मामला जांच में लिया है।

यह भी पढ़े.. Panna news: बर्निंग बस हादसे में ड्राइवर को 190 वर्ष और मालिक को 10 वर्ष की सज़ा

ऑनलाइन ठगी का यह कोई पहला मामला नही है इन दिनों प्रदेश में लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे है और पीड़ित पुलिस थानों के चक्कर लगा रहे है। मनीषा के पास पिता परिमलसिंह यादव का मोबाइल रहता था। मोबाइल पर बुधवार को आनलाइन नौकरी को लेकर दो मैसेज आए। इनका का मनीषा ने रिप्लाय किया था। इसके बाद उसे आनलाइन नौकरी का भरोसा दिलाते हुए ठग ने कागजी कार्रवाई के नाम पर आधार कार्ड और पिता के खाता संबंधी सभी जानकारी ली। इस पर मोबाइल पर ओटीपी नंबर आया था, जिसे मनीषा ने ठग को बता दिया। ओटीपी नंबर बताते ही उसके पिता के खाते से करीब 1 लाख रुपये ठग ने निकाल लिए। यह देख मनीषा के होश उड़ गए। उसकी पांच बहने हैं। बड़ी बहन की शादी की बात हो चुकी थी। मनीषा को लग रहा था कि आनलाइन नौकरी लग जाने से पढ़ाई के साथ ही वह घर का कुछ खर्च भी उठा लेगी लेकिन वह इस चक्कर में ठगी का शिकार को गई। पिता परिमल सिंह का कहना है कि उन्होंने रात में पदमनगर थाने में शिकायत भी की, लेकिन उन्हें यह कहा गया कि मामला साइबर सेल से संबंधित है। सुबह साइबर सेल में शिकायत करना। इसके बाद गुरुवार को मनीषा मां के साथ बाम्बे बाजार स्थित एसबीआइ पहुंची। बैंक में उसके पिता का खाता है। यहां दोनों ने अधिकारियों को ठगी की जानकारी दी। मां ने अधिकारियों से कहा कि उनसे ठगे गए रुपये वापस दिलाए जाएं। बताया जाता है कि अधिकारियों ने पुलिस में जाकर शिकायत करने के लिए कहा था।