Khargone News: खरगोन कर्फ्यू में दी गई 11 घंटे की ढील 23 दिन बाद खुले पेट्रोल पंप

खरगोन के कर्फ्यू को लेकर खरगोन प्रशासन ने बुधवार को 11 घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील दी है और 10 अप्रैल को रामनवमी के जुलूस के दौरान मध्य प्रदेश शहर में हुई हिंसा के बाद पहली बार पेट्रोल पंप खोलने की भी अनुमति दी है।

खरगोन, डेस्क रिपोर्ट। खरगोन में रामनवमी के जुलूस के दौरान हुई हिंसा के कारण अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती और ईद के एक ही दिन पड़ जाने के कारण प्रशासन ने कड़ा रवैया अपनाया था। त्योहारों के मद्देनजर प्रसाशन ने 3 मई 2022 से कर्फ्यू लगाया हुआ था। साथ ही किसी भी धर्म के द्वारा निकले जाने वाली शोभा यात्रा पर भी बैन लगाया था। फिर से हिंसा न हो इसके लिए प्रशासन पहले से ही तैयार थी। गौरतलब है कि रामनवमी के दौरान हुई हिंसा में बहुत से लोगों के साथ पुलिस कर्मी भी घायल हो गए थे।

यह भी पढ़ें – डांसिंग क्वीन Nora Fatehi और Terence Lewis के बीच रिलेशनशिप की बातें कितनी सही और कितनी गलत

खरगोन के कर्फ्यू को लेकर एक अधिकारी ने कहा है कि खरगोन प्रशासन ने बुधवार को 11 घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील दी है और 10 अप्रैल को रामनवमी के जुलूस के दौरान मध्य प्रदेश शहर में हुई हिंसा के बाद पहली बार पेट्रोल पंप खोलने की भी अनुमति दी है। इससे पहले, मंगलवार को 24 घंटे के लिए कर्फ्यू लगा हुआ था और नागरिकों को ईद-उल-फितर और अक्षय तृतीया त्यौहार घर पर मनाने के लिए कहा गया था।

यह भी पढ़ें – डांसिंग क्वीन Nora Fatehi और Terence Lewis के बीच रिलेशनशिप की बातें कितनी सही और कितनी गलत

हालांकि प्रशासन ने बुधवार को सुबह छह बजे से शाम पांच बजे तक कर्फ्यू में ढील देने का फैसला किया है। इस दौरान पेट्रोल पंप भी खोले जा सकते हैं, लेकिन धार्मिक स्थल बंद रहेंगे। खरगोन के उप-मंडल मजिस्ट्रेट मिलिंद ढोके ने मंगलवार रात संवाददाताओं से कहा कि कर्फ्यू में ढील के दौरान यात्री बसों को चलाने की अनुमति दी जाएगी। मंगलवार को, खरगोन में उत्सव ज्यादा समझ नहीं आया क्योंकि लोग घर के अंदर ही रहे।

यह भी पढ़ें – आपकी फिजिकल और मेंटल हेल्थ के लिए हानिकारक है समय से अधिक सोना

10 अप्रैल को हुई हिंसा के बाद खरगोन में कर्फ्यू लगा दिया गया था, जिसके दौरान दुकानों और घरों को नुकसान पहुंचा था, वाहनों को आग लगा दी गई थी और पथराव किया गया था। स्थानीय प्रशासन 4 अप्रैल से कुछ घंटों के लिए कर्फ्यू में ढील दे रहा है। कर्फ्यू में ढील की अवधि के दौरान दूध, सब्जी, दवाई और नाई की दुकानें आदि बेचने वाली दुकानों को खुले रहने की अनुमति दी गयी है।