खरगोन : व्यापारियों ने की प्रशासन को चकमा देने की कोशिश, नायब तहसीलदार ने की दुकानें सील

इतना होने के बावजूद कुछ दुकानदार चंद पैसा कमाने की लालच में कोरोना महामारी को बुलावा देने से नही चूक रहे हैं।

खरगोन

खरगोन, बाबूलाल सारंग। खरगोन (khargone) जिले के अंतर्गत बड़वाह तहसील नगर में लगातार कोविड मरीजो (covid patients) की बढ़ती संख्या के बाद भी कुछ दुकानदार (shopkeepers) अपनी जान की परवाह किए बगैर अन्य लोगो को भी संक्रमित करने से बाज नहीं आ रहे है। जबकि प्रशासन (administration) लगातार ऐसे दुकानदारों को दंडित कर दुकाने सील (seal) कर रहा है। लेकिन इतना होने के बावजूद कुछ दुकानदार चंद पैसा कमाने की लालच में कोरोना महामारी को बुलावा देने से नही चूक रहे हैं। प्रतिदिन कोरोना पॉजिटव मरीजो की गिनती में बढ़ोतरी देखी जा रही है लेकिन शहर में आम नागरिक बिना वजह सड़को पर घूमते नजर आ रहे है। जिनको घरो में रहने के लिए प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है।

यह भी पढ़ें… कोरोना काल में किराना दुकानों में लगी भारी भीड़, सोशल डिस्टेन्सिंग की उड़ी धज्जियां

कोरोना के रोकथाम हेतु किये जा रहे तमाम प्रयासों के बाद भी शहर में कुछ कपड़ा और कटलरी दुकान संचालक दुकानें चला रहे है। इसके साथ ही दूसरों को भी संक्रमित करने से बाज नही आ रहे है। ऐसा ही एक मामला एमजी रोड स्थित करीना साड़ी सेंटर एवं काजल साड़ी सेंटर का प्रकाश में आया। जहा महिलाओं को दुकान के अंदर बैठाकर साड़ियों का व्यापार किया जा रहा था। इस दौरान महिलाओं द्वारा शोसल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं किया जा रहा था। जिसकी सूचना नगर पालिका सीएमओ प्रेम कुमार वासुरे एवं नायब तहसीलदार टी विस्के को दी गई। जिन्होंने तत्काल अपनी टीम के साथ आकर दुकान में बैठी महिलाओं को दुकान से बाहर निकाला और कार्यवाही की। जिसके बाद उक्त दोनो दुकानों को सील किया गया।

यह भी पढ़ें… कोरोना के मद्देनजर ग्रीष्मकालीन अवकाश के लिए मध्य प्रदेश हाईकोर्ट को लिखा गया पत्र

आपको बता दे की इस बार प्रशासन द्वारा पूरी तरह से सख्ती नहीं करने के कारण आम नागरिको ने लॉक डाउन और कोरोना कर्फ्यू का मजाक बना रखा है। जिसके चलते लॉक डाउन के बावजूद प्रतिदिन कोरोना पॉजिटव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। शहर में इस तरह के माहौल में लगातार लॉक डाउन लगाने के बाद भी कोरोना जैसी महामारी पर अंकुश लगाना संभव नही दिखाई दे रहा है।