युवक को पाकिस्तान बॉर्डर से लाने के लिए परिजनों ने प्रशासन से लगाई गुहार, यह है मामला

परिजनों का कहना है कि शासन प्रशासन द्वारा व्यवस्था की जाए ताकि हमारा भाई घर पर सुरक्षित पहुंच सके।

खरगोन, बाबूलाल सारंग। खरगोन (Khargone) जिले के अंतर्गत बड़वाह (barwaha) तहसील में बेड़िया थाने के नलवट ग्राम का एक युवक पांच माह पूर्व पकिस्तान बॉर्डर पहुंच गया था। जिसके बाद अब परिजनयुवक को वापस लाने के लिए प्रशासन से गुहार लगा रहे है।

Read also…Morena: जमीन के विवाद को लेकर दो पक्षों में फायरिंग, 1 कि मौत, 1घायल

दरअसल गरीब आदिवासी परिवार का 35 वर्षीय वेरसिंग पिछले करीब पांच माह पूर्व घर से कहीं चला गया था। जिसके बाद पाँच महीनो के बाद परिजनों के पास बेड़िया थाने से फोन आया कि आपका भाई वेरसिंग पाकिस्तान चला गया। टीआई सौरभ बाथम ने बताया कि राजस्थान गंगानगर पाकिस्तान बार्डर से फोन आया था जिसकी सूचना परिजनों को दी गई है। जहां परिजनों को वाहन की व्यवस्था कर वेरसिंग घर वापस लाने को कहा है। परिजनों को वेरसिंग का पता चलने पर बड़ी प्रसन्ता हुई और वो ख़ुशी से झूम उठे।

Read also…Rajgarh : नकली नोट के कारखाने पर छापा, 50 लाख के नकली नोट सहित, 4 आरोपी गिरफ्तार

वेरसिंग के भाई रामलाल ने बताया कि वेरसिंग मानसिक रूप से कमजोर है। वह शादीशुदा है उनकी पत्नी सोनू बाई व दो लड़की बबली व रोशनी है। रामलाल ने कहा कि हम छः भाई है हमारे पास मात्रा दो एकड़ सुखी जमीन है। सभी भाई मजदूरी करते हैं। वेरसिंग का इलाज करवाने के लिए परिजनों ने जमीन को भी गिरवी रख दी है। उसके बावजूद भी सही नहीं हुआ। वेरसिंग के भाई रामलाल ने बताया कि हमारे पास खाने की व्यवस्था तो नहीं है और इतनी दूर कैसे जायेगे। जीके बाद परिजनों ने शासन से गुहार लगाई है। परिजनों का कहना है कि शासन-प्रशासन द्वारा व्यवस्था की जाए ताकि हमारा भाई घर पर सुरक्षित पहुंच सके।

https://vimeo.com/576426113