मुरैना: लॉकडाउन से पहले बाजार में उमड़ी जमकर भीड़, आज से 22 अप्रैल तक रहेगा बंद

लॉकडाउन

मुरैना, संजय दीक्षित। MP में कोरोना (Corona) के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए आज शुक्रवार 16 अप्रैल शाम 6:00 बजे से 22 अप्रैल सुबह 6:00 बजे तक टोटल लॉकडाउन (Lockdown 2021) के आदेश मुरैना प्रशासन (Morena Administration)  द्वारा दिए गए हैं ।गुरुवार को दिए गए  इस आदेश ने शुक्रवार को बाजार में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया है। एक तरफ जहां किराने के थोक विक्रेताओं ने सामान का स्टॉक करना शुरू कर दिया और वही दूसरी तरफ माल के रेट भी बढ़ा दिए।

यह भी पढ़े.. विधायक निधि: कोरोना संकटकाल में मप्र सरकार का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी

नजारा देख कहा जा सकता है कि  बाजार में बंद के डर के आगे कोरोना का डर फीका दिखाई दे रहा है और चारों ओर गांव से शादी के लिए सामान खरीदने आए लोगों की भीड़ दिखाई दे रही हैं। वही इस वर्ष विवाह मुहूर्त पूरे वर्ष में 23 अप्रैल के बाद ही शुरू होने जा रहे है,  जिसके चलते बाजार में MASK का न तो पालन हो रहा हैं न सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइज का  प्रयोग कहीं  भी नजर नहीं आ रहा ।इसके साथ ही लॉकडाउन की खबर के साथ बाजारों में उमड़ी पड़ी भीड़ ने सामान की कीमतो तो बढ़ा दी।

इतना ही नहीं साथ ही कोरोना के लिए प्रशासन द्वारा किए जाने वाले प्रयास पूरी तरह से विफल नजर आ रहे है और मरीजों की संख्या भी दिनों दिन बढ़ती जा रही है। इसके चलते प्रशासन द्वारा आज शाम 6:00 बजे से गुरुवार शाम 6:00 बजे तक का लॉक डाउन घोषित किया गया है ।इस लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही बाजार में खरीदारी का आलम इस कदर बढ़ रहा है कि ऐसा लग रहा है कि आज के बाद बाजार में सामान ही नहीं मिलेगा। सबसे खास बात तो यह है कि गुटखा खाने वाले और गुटखा बेचने वाले दोनों ने अपना स्टॉक भरना शुरू कर दिया हैं। जिसके चलते कई ऐसे संस्थानों पर जहां गुटके पाउच को थोक रेट पर बेचे जाते हैं वहां भीड़ भी नजर आ रही है।

यह भी पढ़े.. Sex Racket: मप्र में घर में चल रहे सेक्स रैकेट का खुलासा, 5 युवतियों संग 1 युवक गिरफ्तार

बाजार में लगने वाले 5 दिन के लॉकडाउन के चलते बढ़ती भीड़ के कारण दुकानदारों ने इस बीमारी के डर को एक तरफ करते हुए सामान पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि आज शाम 6:00 बजे से ही होने वाले लॉकडाउन का असर केवल इन पाउच आदि सामानों पर ही पड़ा है,  जिले भर में बिकने वाले किराने के सामान पर भी इसका प्रभाव देखा गया है और 10 दिन पूर्व सामान की जो रेट थी उन सभी में 10% से 20% की वृद्धि की गई है।

कोरोना महामारी ने मध्यम परिवार की अर्थव्यवस्था (Economy) को पूरी तरह से अव्यवस्थित कर दिया है।थोक दुकानदारों द्वारा खेरिज दुकानदारों को रेट बढ़ाकर सामान बेचा जा रहा है। जिसके चलते बाजार में किराने के सामान के भाव भी बढ़ा दिए गए हैं।अब आने वाले बुधवार को प्रशासन की मीटिंग की जाएगी।इसमे देखा जाएगा कि लॉकडाउन में डीजे वाले, घोड़ी वाले और गार्डन संचालक को छूट मिलेगी या नही। अगर कोरोना संक्रिमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ा तो प्रशासन के द्वारा लॉकडाउन को आगे बढ़ा दिया जाएगा।