Morena : टेरर टैक्स की मांग की शिकायत करना व्यापारी को पड़ा महंगा, दबंगों ने की अंधाधुन फायरिंग

मुरैना, नितेंद्र शर्मा। मुरैना जिला (Morena District) एक ऐसा जिला है, जो की तेजी के साथ विकास की तरफ अग्रसर है। जैसे-जैसे लोगों के उद्योगों का विस्तार हो रहा है वैसे-वैसे लोगों के पास पैसा बढ़ रहा है। लेकिन कुछ ऐसे असामाजिक तत्व (Anti-social elements) जो कि समाज में अपराध (Crime) को बढ़ाने का कार्य करते हैं जिन्हें हम आम बोलचाल में दबंग्ग कहते हैं। और यह लोग समाज में अपराध को बढ़ावा व आमजन के अंदर भय उत्पन्न करने का काम करते हैं। लोगों को डरा कर पैसा वसूली करना इनका पेशा है। और कुछ इस तरह का मामला सामने आया है मुरैना से। जहां दबंगो द्वारा एक व्यापारी से टेरर टैक्स (Terror Tax ) की मांग की गई। और व्यापारी द्वारा नहीं दने पर उस पर सरेआम फायरिंग की गई।

यह भी पढ़ें…Twitter और Congress में जंग तेज़, प्रियंका गांधी ने लगाई राहुल की तस्वीर, श्रीनिवास ने नाम बदला

Morena : टेरर टैक्स की मांग की शिकायत करना व्यापारी को पड़ा महंगा, दबंगों ने की अंधाधुन फायरिंग

अंम्बाह तहसील के व्यापारी सोनू उर्फ सुनील अग्रवाल जोकि अंम्बाह में अपना रिफाइंड तेल का कारोबार आराम से चला रहे थे मगर कुछ असामाजिक तत्वों की नजर उनके फलते फूलते व्यापार पर पड़ गई। और फिर क्या था दबंगो द्वारा व्यापारी सोनू से पैसों की मांग की गई। यह बात कुछ 1 महीने पहले की है। जब सोनू और सुनील अग्रवाल अपने व्यापार में व्यस्त थे। तभी एक दिन अचानक उनके पास एक फोन आता है और सामने वाला व्यक्ति अपना नाम नीरज शर्मा बताता है और और सोनू अग्रवाल से 10 लाख रुपए का टेरर टैक्स की मांग करता है। जिसके बाद घबराए हुए सुनील अग्रवाल तुरंत अंम्बाह थाने पहुंचे और वहां जाकर थाना अधिकारी को इसकी सूचना दी। थाना अधिकारी ने मामला पंजीबद्ध किया उसके बाद 1 महीने तक ना तो कोई फोन आया ना किसी प्रकार की धमकी मिली। सोनू को लगा की मामला शांत हो गया है और अब उसके पास कोई फ़ोन नहीं आएगा।

Morena : टेरर टैक्स की मांग की शिकायत करना व्यापारी को पड़ा महंगा, दबंगों ने की अंधाधुन फायरिंग

लेकिन गुरुवार 12 अगस्त को जब सुनील अपनी स्कॉर्पियो गाड़ी से मुरैना किसी कार्य से आ रहे थे। तभी रास्ते में दिमिनी क्षेत्र के पास रपट पूरा ग्राम में नीरज शर्मा व उसके भाई श्री राम राजू अरविंद शर्मा व अन्य लोग दो मोटरसाइकिल पर बैठकर आए और सुनील की गाड़ी पर अंधाधुन फायरिंग कर दी। गाड़ी तेज रफ्तार में थी। इसलिए कार में बैठे किसी भी व्यक्ति को कोई जनहानि नहीं हुई। पर गाड़ी के एक टायर में एक गोली लगी। जिससे वह पंचर होकर फट गया। जिसके बाद घबराए हुए सुनील ने जल्द से जल्द दिमनी थाने पहुंच कर इसकी सूचना थाना अधिकारी को दी। थाना अधिकारी ने 307 के अंतर्गत मामला पंजीबद्ध किया व पुलिस मामले की जांच करने में जुट गई है।

वहीं अब सवाल यह उठता है कि जिले में बढ़ते हुए अपराधों को रोकने के लिए जिले की पुलिस क्या कर रही है ? ऐसे में जब अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह सरेआम गोली चलाने से भी नहीं चूक रहे। तो पुलिस चुप क्यों है ?अब देखना होगा कि इस मामले में पुलिस क्या एक्शन लेती है।

यह भी पढ़ें…सुविधाओं के अभाव में बदहाली पर आंसू बहाता नीमच का राजेंद्र प्रसाद स्टेडियम, फुटबॉल खिलाड़ियों में निराशा