मुरैना पुलिस की कार्रवाई, 3 करोड़ के गांजे के साथ 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार

लॉकडाउन (Lockdown) में 2 व्यक्तियों द्वारा गांजे (hemp) की तस्करी की जा रही थी, जिन्हे पुलिस ने धर दबोचा। आरोपियों के पास से करीब 3 करोड़ का गांजा पुलिस ने जब्त किया है।

मुरैना, संजय दीक्षित। प्रदेश में फैली कोरोना महामारी (corona pandemic) के बीच भी लोग आपदा में अवसर ढूंढ रहे हैं। लेकिन पुलिस भी अपना कार्य सघनता से कर रही है जिसके चलते ऐसे लोगों के इरादे पूरे नहीं हो पाते । ताजा मामला मुरैना (Morena) का है। जहां पर लॉकडाउन (Lockdown) में 2 व्यक्तियों द्वारा गांजे (hemp) की तस्करी की जा रही थी, जिन्हे पुलिस ने धर दबोचा। आरोपियों के पास से करीब 3 करोड़ का गांजा पुलिस ने जब्त किया है।

यह भी पढ़ें…अभिनेता रघुबीर यादव ने की शिवराज सरकार की तारीफ, कहा- ‘मानवता बचाने का कार्य किया’

पुलिस अधीक्षक को मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि एक ट्रक ग्वालियर से आगरा की तरफ जा रहा है। जिसमें अवैध गांजा भरा हुआ है। पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में बामोर एसडीओपी ने संपूर्ण कार्रवाई करते हुए थाने के सामने एबी रोड पर दोनों तरफ वाहन चेकिंग पॉइंट लगाए। जहां कार्रवाई की तो ग्वालियर की तरफ से मुखबिर द्वारा बताए गए ट्रक नंबर रोकने का प्रयास किया। जिसके बाद तीन आरोपी ट्रक छोड़ कर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। लेकिन पुलिस ने ट्रक में बैठे दो आरोपियों को धरदबोचा। जिसके बाद पुलिस नेपूछताछ की तो उन्होंने अपना पता चिला चौन्द मठ थाना बाड़ी जिला धौलपुर राजस्थान का होना बताया है। आरोपी ट्रक के अंदर रखी कागजों की स्टेशनरी के पैकेटों के नीचे गांजा भरकर ले जा रहे थे। ट्रक की तलाशी लेने पर करीब 13 क्विंटल 50 ग्राम किलोग्राम गांजा बरामद किया गया। जिसकी कीमत और ट्रक की कीमत करीब 2 करोड़ 70 लाख 90 हज़ार रुपए और 880 पैकेट स्टेशनरी की कीमत करीब 15 लाख रुपए बताई जा रही है। वहीं कुल कीमत करीब 2 करोड़ 95 लाख 90 हज़ार रुपए है। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि कई सालों से अवैध गांजे की तस्करी कर रहे हैं। इन तस्करों का एक रैकेट उड़ीसा के थाना गोरखपुर के क्षेत्र में रहता हैं। जो गांजे की तस्करी करते हैं। वहां से छोटी मोटी डिलीवरी बने सामान को दिल्ली, हरियाणा की तरफ बेचते हैं। अवैध गांजे को लेकर चलने वाले ट्रकों के आगे पीछे रेकी करने वाली चार पहिया वाहन भी चलते हैं। इस अवैध तस्करी में कई लोग शामिल हैं। जो इस तरह की करतूतों को अंजाम देते है।

यह भी पढ़ें…दमोह में व्यापारियों के लिए अलग से शुरू हुआ वैक्सीनेशन सेंटर