Jabalpur News: अब व्हीकल फैक्ट्री की ये उपलब्धि बनेगी उसकी नई पहचान

व्हीकल फेक्ट्री के महाप्रबंधक की माने तो पहले जहां सारंग तोप 130 कैलिबर की थी वही उसकी ताकत को बढ़ाते हुए अब 155 कैलिबर का बना दिया गया है जिससे कि इसकी मारक क्षमता पहले की अपेक्षा और कई गुना बढ़ गई है। 

जबलपुर, संदीप कुमार।  इस साल के आयुध निर्माणी दिवस पर जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory Jabalpur) का नाम देश भर के सुरक्षा संस्थानों में कुछ अलग कामों के लिए लिया जाएगा, आमतौर पर केंद्रीय सुरक्षा संस्थान व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) का नाम सिर्फ वाहन बनाने वाली फैक्ट्री के लिए याद किया जाता था पर अब व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) सेना के लिए वाहनों के साथ साथ सारंग तोप (Sarang Cannon) बनाने का काम भी कर रही है।  खास बात यह है कि सेना को व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) का काम इतना पसंद आया कि उन्होंने सारंग तो बनाने का पूरा काम व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory) को दे दिया। अभी वर्तमान में करीब 300 सारंग तोप (Sarang Cannon)बनाने का काम फैक्ट्री को मिला है।

300 में से 40 सारंग तोप सौप दी गई है सेना को

जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory Jabalpur) जो कि बीते कई सालों से सेना के लिए वाहन बनाने का काम कर रही है,चाहे शक्तिमान रही हो या फिर स्टालियन या फिर बुलेट प्रूफ वाहन इन तमाम वाहनों का निर्माण जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory Jabalpur) में होता आ रहा है पर अब व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) वाहनों के अलावा सेना के लिए सारंग तोप  (Sarang Cannon) बनाने का काम भी कर रही है। सेना ने व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) को करीब 300 सारंग तोप (Sarang Cannon) का आर्डर दिया है जिसमें से कि अभी तक करीब 40 सारंग तोप फैक्ट्री ने बनाकर सेना को दे दी है। व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) के महाप्रबंधक अतुल गुप्ता अपनी फैक्ट्री की इस उपलब्धि पर खासा खुश हैं।

ये भी पढ़ें – MP Weather Alert: इन जिलों में आज गरज-चमक के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट

और अपग्रेड हुई है सारंग तोप

व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur)के महाप्रबंधक अतुल गुप्ता बताते हैं कि सारंग तोप (Sarang Cannon) को और अत्याधुनिक तरीके से अपग्रेड किया जा रहा है। व्हीकल फेक्ट्री (Vehicle Factory) के महाप्रबंधक की माने तो पहले जहां सारंग तोप (Sarang Cannon) 130 कैलिबर की थी वही उसकी ताकत को बढ़ाते हुए अब 155 कैलिबर का बना दिया गया है जिससे कि इसकी मारक क्षमता पहले की अपेक्षा और कई गुना बढ़ गई है।

सारंग तोप को लीड करने वाले अधिकारी को बोर्ड ने किया पुरस्कृत

व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (Vehicle Factory Jabalpur) में जब से सारंग तोप (Sarang Cannon) बन रही है तब से अभी तक जो अधिकारी पूरी टीम को लीड कर रहे थे उन अधिकारी रामेश्वर मीणा को हाल ही में ऑडनेंस फैक्ट्री बोर्ड ने आयुध भूषण पुरस्कृत से भी नवाजा है। यह पुरस्कार सिर्फ व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory)जबलपुर ही नहीं बल्कि जबलपुर के लिए भी एक गौरव का विषय है।

जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री में सारंग तो गन कैरिज में बनती है धनुष तोप

जबलपुर की व्हीकल फैक्ट्री (Vehicle Factory Jabalpur) में जहां बड़ी संख्या में सारंग तोप बनाने का काम चल रहा है तो वही जबलपुर की ही गन कैरिज फैक्ट्री में धनुष तोप बनाई जा रही है। धनुष तोप के बारे में बताया जाता है कि यह देश की सबसे शक्तिशाली तोप है जिसकी मारक क्षमता बहुत अधिक है। ऐसे में कहा जा सकता है कि यह संस्कारधानी जबलपुर के लिए एक बहुत ही गौरव की बात है कि इस शहर में दो सुरक्षा संस्थान ऐसे भी हैं जो कि सेना के लिए सबसे शक्तिशाली तोप का निर्माण कर रहे हैं।