कोर्ट के बाहर बोली दुष्कर्म पीड़िता, पुलिस ने की मारपीट, वन स्टॉप सेंटर भेजा

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर की मुरार थाना पुलिस के स्टाफ पर एक दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim)ने बयान बदलने के लिए मारपीट करने के आरोप लगाए हैं। दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim)ने कोर्ट में अपने बयान दर्ज कराने के बाद मीडिया को कैमरे पर अपनी पीड़ा बताई। दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) ने मुरार पुलिस के साथ जाने से इंकार किया तो कोर्ट ने उसे CSP के सुपुरी कर दिया। CSP ने दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) का मेडिकल करा कर वन स्टॉप सेंटर भेज दिया है। वहीं पुलिस ने मारपीट की बात से इंकार किया है।

मुरार थाने में रविवार देर रात पहुंची एक लड़की ने उसके मकान मालिक और उसके दोस्त पर दुष्कर्म (Rape) का आरोप लगाया। लड़की ने शिकायत की कि आदित्य सिंह भदौरिया और उसके दोस्त ने बंधक बनाकर उसके साथ दुष्कर्म (Rape)  किया। रात को जब वो पुलिस थाने पहुंची तो पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया। मामला एडिशनल एसपी तक पहुंचा तो FIR के आदेश हुए।

मीडिया से कहा मुझे पुलिस ने झाड़ू, बेल्ट से पीटा

मामला दर्ज होने के बाद सोमवार को सुबह पुलिस हरकत में आई और दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) के परिजनों को थाने बुलाया। उसके बाद देर शाम दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) को 164 के बयान के लिए कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में बयान दर्ज कराने के बाद दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) ने मीडिया के कैमरे पर पुलिस पर मारपीट के गंभीर आरोप लगाए। उसने अपने शरीर पर चोट दिखाते हुए मीडिया के सामने अपनी पीड़ा बताई। उसने पास में खड़ी एक महिला सब इंस्पेक्टर सहित मुरार थाने के स्टाफ पर झाड़ू और बेल्ट से पीटने के गंभीर आरोप लगाए।

दरवाजा खटखटा कर कमरे में घुसे और किया दुष्कर्म

दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) ने आपबीती सुनाते हुए कहा कि वो सीपी कॉलोनी में गंगा सिंह भदौरिया के घर में झाड़ू पौंछा करती है। 20 दिसंबर 2020 से वो वहाँ काम करती है और वहीं रहती है। उसने बताया कि 31 जनवरी की रात गंगा सिंह भदौरिया सिंह के नाती आदित्य सिंह भदौरिया और उसके दोस्त ने कमरे का दरवाजा खटखटाया और कमरे में घुस आये फिर मेरे साथ दुष्कर्म किया। फिर धमकी दी और भाग गए।

उम्र को लेकर रही गफलत की स्थिति

दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) की उम्र को लेकर अलग अलग तरह की बातें सामने आई हैं। दुष्कर्म पीड़िता (Rape Victim) ने पुलिस को अपनी उम्र 15 साल बताई तो पुलिस ने दुष्कर्म की धाराओं के साथ पॉक्सो एक्ट की धाराएं भी जोड़ दी। जब उसका आधार कार्ड देखा तो उस हिसाब से पीड़िता 13 साल की थी लेकिन जब पीड़िता के पिता से उसकी मार्कशीट मंगाई तो उस हिसाब से पीड़िता की उम्र 19 साल के आसपास है।

आरोपी पक्ष भी आया अपने बचाव में

पूरे घटनाक्रम के बाद आरोपी पक्ष भी अब सामने आ गया है प्रोपर्टी कारोबारी गंगा सिंह भदौरिया ने कहा है कि मेरे नाती आदित्य सिंह को फंसाने का प्रयास है। लड़की झूठ बोल रही है। उन्होंने कहा कि 28 सितंबर, 2017 को उनके बेटे संजय भदौरिया को सोनू परमार, संदीप शर्मा और उनके साथियों ने हत्या कर दी थी। उस हत्या में मेरा नाती आदित्य मुख्य गवाह है। अभी सभी आरोपी पेरोल पर हैं उन लोगों से साजिश के तहत लड़की को हमारे यहाँ काम पर रखवाया। उन्होंने दावा किया कि राहुल नाम का लड़का सीसीटीवी में रात पौने आठ बजे एक पैकेट लेकर आता और फिर 8:22 पर वापस जाता दिख रहा है उसी के साथ इसी बीच लड़की ने पुलिस को झूठा फोन किया है।

कोर्ट में मुरार पुलिस के साथ जाने से किया इंकार तो CSP के सुपुर्द किया

कोर्ट में पीड़िता ने मुरार पुलिस के साथ जाने से इंकार कर दिया। जिसके बाद कोर्ट ने पीड़िता को CSP को सौंपने के निर्देश दिये। CSP राम नरेश पचौरी ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ को बताया कि पीड़िता का मेडिकल करा दिया गया है और उसे वन स्टॉप सेंटर भेज दिया गया है। वहीं पीड़िता के मारपीट के आरोप से स्पष्ट इंकार करते हुए CSP ने कहा कि पुलिस दुष्कर्म की शिकायत लेकर आई पीड़िता को क्यों पीटेगी? ये गलत बयान है। फिर भी जांच में इस बिंदु का भी ध्यान रखा जायेगा।

MP Breaking News

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here