राजगढ़

राजगढ़ में बैंक के बाहर किसान लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करने को मजबूर हैं। ये लोग अब बैंक पासबुक को जमीन पर रखकर लाइन में अपनी जगह पक्की कर रहे हैं। बैंक के बाहर धूप में परेशान किसानों ने चंदा इकट्ठा करके टेंट तक लगवा लिया। ये लोक समर्थन मूल्य पर गेंहू बेचने के बाद उसका पैसा लेने यहा आए हुए हैं।

बैंक के सामने लोगो की जगह जमीन पर बैंक की पास बुक की लंबी लाइन लगी है, ये तस्वीर है मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले के बोड़ा शहर स्थित सहकारी केंद्रीय बैंक की। यहां लोगों की कतार की जगह बैंक की पासबुक की कतार देखी जा सकती है। दरअसल लोग ऐसा परेशानी से बचने के लिए कर रहे हैं। बैंक पास बुक को लाइन में लगाकर ये टहलते रहते हैं ओर अपनी बारी आने पर पास बुक उठाकर बैंक के अंदर प्रवेश करते हैं। बैंक के बाहर तेज धूप से बचने के लिए किसानों ने चंदा इकठ्ठा कर खुद के पैसे से बैंक के बाहर टेंट लगवाया ।

अन्नदाता को समर्थन मूल्य पर अपने गेहूं को बेचने के लिए दस-दस दिन तक समर्थन मूल्य केंद्र पर इंतजार करना पड़ा , जैसे तैसे गेहूं को तो तौल दिया लेकिन अब उसके रुपए लेने के लिए भी बैंकों के बाहर लाइन में लगना पड़ रहा है । यह तस्वीरें राजगढ़ जिले के बोड़ा की है जहां की जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने की राशि लेने आए किसानों को धूप से बचने के लिए बैंक ने कोई व्यवस्था नहीं की थी, ऐसी धूप में बिना टेंट के सुबह से लगे लाइन में किसानों का खड़ा रहना मुश्किल था। फिर किसानों ने खुद ही चंदे की राशि इकट्ठा की और टेंट लगवा लिया। किसान बैंक के बाहर अपनी पासबुक को नंबर में लगाकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे है। बैंक के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं हो पा रहा है लेकिन ध्यान देने वाला कोई नहीं है।