Ratlam News: भाजपा विधायक बोले- विधानसभा में ना उठाऊं सवाल, इसलिए रचा गया षड़यंत्र

कलेक्टर गोपालचंद डाड ने कहा- नहीं दिए निर्देश 

MP News

रतलाम, सुशील खरे। रतलाम जिले की जावरा विधानसभा (क्रमांक 222) के BJP विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय (rajendra pandey) कोरोना पॉजिटिव (corona positive) आए है। 22 फरवरी से विधानसभा सत्र (Assembly session) शुरू हो रहा है। इसमें शामिल होने से पहले स्वास्थ विभाग के कहने पर उन्होंने शुक्रवार सुबह 9.30 बजे काेविड टेस्ट (covid19 test) करवाया। देर शाम रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद होम क्वारेंटिन हो गए लेकिन विधायक ने कोविड टेस्ट पर सवाल उठाए। जिले के बाकी 4 विधायकों की रिपोर्ट आना बाकी है जबकि सिर्फ राजेन्द्र पांडेय जावरा विधायक की रिपोर्ट आई। इसी बात को गंभीरता से लिया गया।

पांडेय बोले सामान्यत: कोविड टेस्ट रिपोर्ट 12 से 24 घंटे बाद आती है। मैं भाग्यशाली हूं 4:48 मिनट में रिपोर्ट आ गई क्योंकि बीएमओ डॉ. दीपक पालड़िया सैंपल कलेक्ट कर खुद दोपहर 12 बजे मेडिकल कॉलेज सैंपल देकर आए। शाम सवा 5 बजे सोशल मीडिया पर सूचना चली कि मैं पॉजिटिव हूं। मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया समेत कई स्नेहीजन मेरा कुशलक्षेम पूछने लगे जबकि शाम 6.30 बजे तक स्वास्थ विभाग या मेडिकल कॉलेज की तरफ से मुझे कोई सूचना नहीं दी गई।

जावरा विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय ने कहा कि मुझे बाद में पता चला कि रिपोर्ट 4:48 बजे आ गई। फिर मुझे सूचना क्यों नहीं दी। मैं जनप्रतिनिधि और सार्वजनिक व्यक्ति हूं। इसलिए अनजाने में देरशाम तक जनसमस्या सुनता रहा। चूंकि सैंपल के बाद क्वारेंटाइन वाला प्रोटोकॉल नहीं और मैं पूरी तरह स्वस्थ हूं, इसलिए सैंपलिंग के बाद रूटिन कार्यक्रमों में व्यस्त रहा। दिन में भगतसिंह कॉलेज पहुंचकर एसडीएम व प्राचार्य के साथ जनभागीदारी समिति की बैठक ली। शाम को संयुक्त अतिथि शिक्षक संघ समेत अन्य संगठनों से ज्ञापन लिए और समस्या सुनी। मेरा मोबाइल नहीं लगा तो पीए को सूचना देना थी।

Read More: शिवराज मंत्री की नाराजगी पड़ी महंगी, पद से हटाए गए चीफ इंजीनियर, इनको सौंपी गई कमान

जावरा विधायक का व्यवस्था पर सवाल

जावरा विधायक ने व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि स्थानीय प्रशासन से मुझे खबर करवाना थी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। यहां तो एसडीएम राहुल धोटे, बीएमओ तक को शाम 6:30 बजे तक जानकारी नहीं है। मुझे तो जांच पर ही संदेश है। मैंने कोरोनाकाल में सतत सेवाएं दी। स्वास्थ विभाग व खासकर मेडिकल कॉलेज जाकर निरीक्षण किए। वहां जो कमियां थी उन्हें उजागर किया। क्या इसलिए मुझे विस सत्र जाने से रोका गया।

ये पूछने पर कि क्या आपको राजनीतिक षड़यंत्र के तहत पॉजिटिव बताकर सदन जाने से रोका है, इसके जवाब में विधायक डॉ. पांडेय बोले कि राजनीति में सबकुछ संभव है। मैंने 64 प्रश्न लगाए और सदन में कई अहम निर्णय होना है। इसलिए सदन जाना अनिवार्य था, अब मैं रिपिट टेस्ट करवाऊंगा। फिलहाल क्वारेंटाइन पालन कर रहा हूं। यदि रिपिट में भी पॉजिटिव रहा तो पालन करूंगा और यहीं से जनहित में जो काम हो सकेंगे करूंगा।

कलेक्टर गोपालचंद डाड ने कहा- नहीं दिए निर्देश 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसाए कलेक्टर गोपालचंद डाड ने कहा वैसे तो विस सत्र शुरू होने से पहले कोविड टेस्ट करवाना चाहिए। पिछली बार शासन से निर्देश आए थे तो हमने टेस्ट करवाया था। इस बार मैंने टेस्ट के निर्देश नहीं दिए।सीएमएचओ के पास लेटर आया हो और उन्होंने टेस्ट का बोला हो तो नहीं मालूम। यदि विधायक रिपिट टेस्ट करवाना चाहते हैं तो करवा देंगे, इसमें कुछ गलत नहीं है। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर समय पर सूचना क्यों नहीं की गई, इसकी जांच जरुर करवाएंगे। मुझे भी शाम 6.30 बजे सूचना मिली।

सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे की सफाई

वहीं सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे ने पहले तो कहा कि कलेक्टर के निर्देश थे इसलिए टेस्ट करवाया। फिर बोले सीधे कलेक्टर ने नहीं बोला, विस सचिवालय से सभी जिलाधीश के नाम जो पत्र जारी हुआ था। वह कहीं से मार्क होकर हमारे पास आया और उस आधार पर टेस्ट करवाया तो उधर शनिवार सुबह जावरा के बीएमओ डॉ दीपक पालड़िया का एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से दूरभाष से बातचीत में कहना है कि अभी जावरा की 2 तीन दिन पुरानी रिपोर्ट्स आना शेष होंगी साथ ही उनका यह भी कहना है कि विधायक का फिलहाल कोई कोविड का टेस्ट नहीं होना है ना सेम्पल लेने का हमे कोई निर्देश हैं जबकि dr पांडेय का कहना है कि आज वो टेस्ट करवाएंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here