रतलाम : पुलिस पर प्रताड़ना और मारपीट का आरोप, पीड़ित की मौत के बाद तीन जवान निलंबित

रतलाम जिले की बड़ावदा थाना पुलिस पर पूछताछ के दौरान प्रताड़ना और हत्या का आरोप लगाते गए हैं। मामले में एसपी ने तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।

रतलाम, सुशील खरे। जिले के बड़ावदा थाना पुलिस पर एक व्यक्ति की हत्या के गम्भीर आरोप लगाए गए हैं। क्षेत्र के ग्राम ठिकरिया के एक व्यक्ति को पुलिस ने कच्ची शराब बेचने की शंका में पूछताछ के लिए थाने ले गई। थाने ले जाने के एक घण्टे बाद इस व्यक्ति को बेहोशी को हालत में तीन पुलिसकर्मी वापस घर छोड़ कर चले गए। व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। जिसके बाद तीन पुलिस जवानों को एसपी ने निलंबित कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें:-अशोकनगर : एसडीएम की पहल पर बुजुर्ग महिला को मिला आशियाना

रतलाम जिले की बड़ावदा थाना अंतर्गत ग्राम ठिकरिया में प्रेमसिंह को शुक्रवार दोपहर को बड़ावदा पुलिस के दो जवान पूछताछ के लिए थाने ले गए थे। करीब 1 घण्टे बाद बड़ावदा थाने के तीन जवान दो मोटरसाइकिल पर प्रेमसिंह को साथ लेकर आये और उसके घर के बाहर छोड़कर चले गए। घर पर उस समय उसकी पत्नी और बच्चे ही थे। प्रेमसिंह बेहोशी की हालत में था। इसकी सूचना प्रेमसिंह की पत्नी ने अपने रिश्तेदारों को दी। पत्नी और रिश्तेदार प्रेमसिंह को लेकर बड़ावदा हॉस्पिटल पहुंचे। जहां से उनको जावरा रेफर कर दिया गया। परिजनों ने बड़ावदा पुलिस को सूचना देकर जावरा हॉस्पिटल ले जाकर भर्ती कराया। जहां से देर रात को प्रेमसिंह की हालत गंभीर होने के कारण जिला चिकित्सालय रतलाम भेजा गया। रतलाम में इलाज के दौरान उसकी देर रात को मौत हो गई।

तीन पुलिसकर्मी लाइन अटैच

प्रेमसिंह की मौत से परिजनों में आक्रोश है। परिजनों ने पुलिस पर प्रताड़ना और मारपीट का आरोप लगाते हुए तीनो पुलिस जवानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। घटना की सूचना मिलते ही एसडीओपी बड़ावदा पहुंचे। मामले की जानकारी मिलने के बाद एसपी गौरव तिवारी ने तीनों पुलिस जवानों अरुण, दीपक और गोविंद को लाइन अटेच कर दिया है। वहीं जिला चिकित्सालय में मृतक प्रेमसिंह के शव का पोस्टमार्टम तीन सदस्यी डॉक्टरों के पैनल से कराया गया है। पुलिस का कहना है कि मृतक आदतन शराबी था। कच्ची शराब की शंका में पूछताछ के लिए लाया गया था।