सागर, अतुल मिश्रा। केसली थाना क्षेत्र के निवारी खुर्द गांव में सौतेले पिता ने ही बेटी को मारकर उसे कुएं में फेंक दिया। दो दिन बाद जब शव पानी से ऊपर आ गया तो आरोपी ने उसे कुएं से निकालकर जमीन में गाड़ दिया। पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

फिल्मी स्टाइल में युवक ने रची अपने अपहरण की झूठी कहानी, कर्ज से परेशान होकर उठाया कदम

शुक्रवार को निवारी खुर्द में रहने वाली 7 वर्ष की लापता मासूम का शव तालाब के पास क्षत विक्षत हालत में मिला। शव का जानवरों ने नोंच खाया था। आरूषि नवारी नाम की इस बच्ची के कपड़ों और चप्पलों से उसकी शिनाख्तगी की गई। पिछले 6-7 दिन पहले लड़की की मां ने थाने में उसके गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी। शव मिलने के बाद पुलिस हरकत में आई। वरिष्ठों के मार्गदर्शन में एक टीम बनी, जिसके बाद जांच शुरू की गई। पुलिस ने मामले में लड़की की मां और उसके दोनों पतियों को पूछताछ के लिए बुलाया। दरअसल लड़की की मां ने दो शादियां की हैं। पहले पति से उसके दो लड़कियां हैं। लड़की की मां अपने पहले पति को छोड़कर दूसरे पति निवारी खुर्द निवासी मोनू उर्फ भूपेंद्र राजपूत (28 वर्ष) के साथ निवारी खुर्द में रह रही थी। उसके साथ उसकी बेटी भी रहती थी।

महिला का दूसरा पति अक्सर उसकी लड़कियों से मारपीट करता था। दो जुलाई की रात भी पति मोनू ने किसी बात पर 7 साल की मासूम से मारपीट की। इसके बाद उसे चुपके से घर के पास बने कुएं में फेंक दिया। दो दिन बाद जब लड़की का शव कुएं के पानी के ऊपर आ गया तो आरोपी ने उसे निकालकर एक बोरे में भरा और तालाब के किनारे गाड़ दिया। इस पूरे मामले में आरोपी ने लड़की की मां यानी अपनी पत्नी को कुछ नहीं बताया। महिला ने बच्ची की गुमशुदगी की शिकायत भी थाने में की। 9 जुलाई को तालाब किनारे गाड़े गए शव को जानवरों ने नोंच कर बाहर निकाल लिया, जिसके बाद लड़की की मौत की जानकारी सबको लगी। पुलिस ने आरोपी मोनू को गिरफ्तार कर लिया है। पहले तो आरोपी मोनू ने पुलिस को पूछताछ में खूब छंकाया, इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों ने मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ कर उससे गुनाह कबूल करवा लिया। इस तरह पुलिस ने 24 घंटे के भीतर इस अंधे कत्ल का खुलासा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।