शीतल व्यास से सुनिये एक सुंदर कविता

सीहोर

कोरोना संकटकाल में हर तरफ नकारात्मक माहौल दिखाई दे रहा है,  लेकिन हमें हर हाल में इस नकारात्मकता से उबरना ही होगा। और इसके लिये कला व साहित्य से अच्छा कोई रास्ता नहीं। कई लोग ऐसे हैं जो इस माहौल में भी अपने भीतर की सकारात्मकता को न सिर्फ बचाए हुए है बल्कि उसे बखूबी अभिव्यक्त भी कर रहे हैं।

तो आईये आज आपकी मुलाकात कराते हैं सीहोरी की श्रीमती शीतल व्यास से, ये सुंदर कविताएं रचती हैं और आज उन्हीं से सुनिये इस कोरोना काल में सुकून देती एक कविता।