निजी अस्पताल

सीहोर, अनुराग शर्मा। सीहोर में नियमों के विरुद्ध चल रहे मां नर्मदा अस्पताल का लाइसेंस (licence) मुख्य चिकित्सा अधिकारी (chief Medical Officer) ने निरस्त कर दिया है। उन्होंने अस्पताल (hospital) को निर्देश दिया है कि उनके यहां जो भी मरीज भर्ती है। उन्हेंं किसी दूसरे पंर्जीकृत अस्पताल में भर्ती कराया जाए। साथ ही भर्ती मरीजों से जो शुल्क लिया गया है, वह भी वापस किया जाए।

Read More: ऑफिस में सहयोगी महिला को Kiss करना पड़ा भारी, स्वास्थ्य मंत्री का इस्तीफा

सीएमएचओ ने सख्त आदेश दिया है कि यदि नोटिस मिलने के एक माह के भीतर अस्पताल बंद नहीं किया गया तो उसे सील कर दिया जाएगा। बता दें कि अस्पताल को लेकर लगातार शिकायतें सामने आ रहीं थी। शिकायत में अस्पताल द्वारा मरीजों से अधिक राशि वसूलने, अभद्र व्यवहार करने, सही से उपचार न करने और मरीजों को धमकाना शामिल है।सीएमएचओ द्वारा बनाई गई जांच के सामने अस्पताल प्रशासन का रवैया भी संदेहास्पद रहा। जांच समिति को अस्पताल में न तो डॉक्टर मिले और न ही कर्मचारी मिले। सिर्फ मैनेजर ही मौके पर मिले।

Sehore : नियम के विरुद्ध संचालित हो रहा था अस्पताल, CMO ने निरस्त किए लाइसेंस