MP: बिजली विभाग की टीम को ग्रामीणों ने जमकर खदेड़ा, दो गंभीर घायल

श्योपुर।  श्योपुर में बिजली बिल बकायादारों पर कार्रवाई करने गांव में पहुंची बिजली कम्पनी की टीम पर हमला हुआ है। ग्रामीणों द्वारा टीम पर न सिर्फ पथराव किया गया है, बल्कि एक ग्रामीण ने तो बिजली टीम और जेई को ट्रेक्टर से कुचल दिया होता। गनीमत यह रही कि टीम बिना कार्रवाई किए मौके से जान बचाकर भाग निकली लेकिन इस हमले में बिजली कम्पनी के दो कर्मचारी घायल हुए है। फिर भी पुलिस द्वारा आरोपियों पर मामला भी दर्ज नहीं किया है।

मामला बड़ौदा थाना क्षेत्र के बागलदा ग्राम पंचायत के स्माइल के टपरा गांव का है, जहां पंचायत के सरपंच से लेकर अन्य ग्रामीणों पर करीब 2 लाख 24 हजार रुपए का बिजली बिल बकाया था, जिसे लेकर बिजली कम्पनी के जेई लोकेंद्र जाट द्वारा ग्रामीणों को कई बार नोटिस दिए जा चुके है। लेकिन उनके द्वारा बिजली बिल जमा नहीं किए गए। इस पर बिजली कम्पनी ने बीते बुधवार की शाम गांव में पहुंचकर बिजली कनेक्शन काटने और ट्रांसफार्मर उठाने की कार्रवाई शुरू की गई तो इस कार्रवाई के विरोध में सरपंच का बेटा ग्रामीणों को लेकर मौके पर पहुंच गया। जिसने पहले टीम पर ट्रेक्टर चढाने का प्रयास किया जब जेई ने रोका तो जेई पर भी ट्रेक्टर चढ़ा दिया होता। टीम ने जब विरोध शुरू किया तो ग्रामीणों ने पथराव कर उन्हें खदेड़ना शुरू कर दिया जिसे आप भी इन तस्वीरों में साफ तौर पर देख सकते है कि किस तरह से पथराव के दौरान जेई अपनी टीम के साथ भागते नजर आरहे है। 

विजली टीम पर हुए हमले के बाद जेई ने मामले की शिकायत बड़ौदा थाने में की लेकिन टीआई ने एफआईआर तक दर्ज नहीं की गई। इस वजह से न्याय की गुहार लगाने बिजली कम्पनी के जेई को अपने साथी और अधिकारियो के साथ आज एसपी कार्यालय पहुंचकर एसपी नगेन्द्र सिंह को ज्ञापन सौपना पड़ा है। बिजली कम्पनी के जेई लोकेंद्र जाट का कहना है कि ऊ है कि उन्हें जानसे मारने का प्रयाश किया गया है लेकिन पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। 

पूरी घटना के साक्ष्य के रूप में बिजली कम्पनी के पास सीसीटीवी फुटेज है। फिर भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं होना आरोपियों को राजनैतिक सपोर्ट होने की पुष्टि कर रहा है। इस बारे में जब जिले के एसपी नगेन्द्र सिंह से बात की गई तो वह घटना होने की बात कहते हुए बीते रोज कम्यूटर में तकनीकी दिक्कतें होने की बात कहकर आज मामले में एसएआर ओर आरोपियों की गिरफ्तारी करने की बात कह रहे है…अब देखना होगा कि पुलिस आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी या नहीं।