शिवपुरी में तिरंगे का अपमान: जिला कॉंग्रेस कार्यालय पर उल्टा फहराया गया राष्टीय ध्वज, कार्रवाई की मांग, जानें पूरा मामला

Shivpuri News: आज पूरा भारत 77वाँ स्वतंत्रता दिवस धूम-धाम से मना रहा है। इसी बीच मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले से तिरंगे के अपमान का मामला सामने आया है। बता दें कि राष्ट्रीय ध्वज का अपनाम करने पर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है। दरअसल, मंगलवार को जिला कांग्रेस कार्यालय पर स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम का आगाज जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय सिंह चौहान के नेतृत्व में किया गया। इस दौरान जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय सिंह चौहान द्वारा ही राष्ट्रीय ध्वज को उल्टा फहराया गया। हालांकि इस मामले में उनका बयान भी सामने आया।

लोगों ने की कार्रवाई की मांग

जिला कॉंग्रेस अध्यक्ष के कार्यालय में उल्टा तिरंगा तो फहराया ही गया है। लेकिन वीडियो में देखा जा सकता कि राष्ट्रीय ध्वज के ऊपर कांग्रेस पार्टी का झंडा लहरा रहा है। कार्यक्रम के दौरान कई नेता शामिल हुए लेकिन किसी का भी ध्यान तिरंगे पर नहीं गया। न ही किसी ने बताया कि राष्ट्रीय ध्वज को उल्टा फहराया गया है। करीब 1 घंटे तक राष्ट्रीय ध्वज ऐसे ही फहराया गया है। लोगों का कहना है कि जिला कॉंग्रेस अध्यक्ष पर FIR दर्ज होनी चाहिए। भारत के राष्ट्रीय ध्वज के अपमान को लेकर लोगों का कहना है कि, “राष्ट्रीय ध्वज से कॉंग्रेस पार्टी का झंडा फहराया गया, यह भी तिरंगे का अपमान है। ऐसे में तिरंगे का अपमान करने वाले लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।” सुरेन्द्र शर्मा ने कॉंग्रेस पार्टी पर तंज कसते हुए कहा कि, “ये है कमलनाथ की कॉंग्रेस, 10 जनपथ के दरबारियों से देशभक्ति की उम्मीद क्या करें? यह शिवपुरी में कॉंग्रेस कार्यालय पर कॉंग्रेस जिलाध्यक्ष द्वारा उल्टा राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। यह तिरंगे का अपमान है। मेरा शिवपुरी एसपी से आग्रह है कि वह कानूनी कार्यवाही की जाए।”

जिलाध्यक्ष ने क्या कहा?

इस मामले में विजय सिंह चौहान का बयान भी सामने आया है। उन्होनें सफाई देते हुए कहा, “झंडा बड़ा था और फहराते समय उलझ गया था। जिसके कारण ऐसा लग रहा है कि वह उल्टा फहराया था। ऐसा कुछ नहीं है। विरोधी लोग दुष्प्रचार कर रहे हैं।”


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News