Singrauli : लाखो की लागत से खरीदी एक्स-रे मशीन में लग रही जंग, मरीज हो रहे परेशान

सिंगरौली जिले के CHC अस्पताल खुटार में सालो पहले लाखों की लागत से एक्स-रे मशीन (X-ray machine) खरीदी गई थी । सालो पहले खरीदी गई एक्स-रे मशीन आज भी बंद कमरे में धूल खा रही है। जिसके चलते मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

सिंगरौली,राघवेन्द्र सिंह गहरवार। सिंगरौली (Singrauli) जिले के CHC अस्पताल खुटार में सालो पहले लाखों की लागत से एक्स-रे मशीन (X-ray machine) खरीदी गई थी । लेकिन सालो बीत जाने के बाद भी एक्स-रे मशीन को फीडिंग या शुरुआत नहीं किया गया है। बल्कि सालो पहले खरीदे गई एक्स-रे मशीन आज भी बंद कमरे में धूल खा रही है। उसके कलपुर्जो में अब तक जंग लगना शुरू हो गया। CHC अस्पताल खुटार में स्थानीय लोगों को एक्स-रे की सुविधा नहीं मिल पा रही है। इसके लिए लोगों को प्राइवेट क्लीनिक (Private clinic) व एक्स-रे सेंटर (X-ray center) का चक्कर काटने पड़ रहे हैं, जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें…किसान सम्मान निधि: MP में 1,70,596 किसानों को नोटिस, लौटानी होगी राशि

सूत्रों की माने तो सरकार मरीजों की सुविधा के लिए हर मुमकिन पहल करती नजर आ रही है। लेकिन असल मे इसका क्रियान्वयन होता दिखाई नहीं दे रहा है। जिसका जीता जागता उदाहरण CHC अस्पताल खुटार में देखने को मिल रहा है। काफी समय से खुटार अस्पताल CHC में रखी एक्स-रे मशीन को अब तक शुरू नहीं किया गया है, जिससे लोगों को परेशानी हो रही है। एक्स-रे मशीन जो सालो से बिना इस्तेमाल किए धूल फांक रही है, इसका उपयोग आज तक मरीजों की सुविधा के लिए नहीं हो पाया है यहां तक कि इसकी फीडिंग भी नही हो पाई है। ऐसे में मरीजो को एक्स-रे करवाने 15-16 किलोमीटर दूर जिला मुख्यालय जाना पड़ता है। अब सवाल ये उठता है कि आखिर कब तक टेक्नीशियन न होने की बात पर एक्स-रे मशीन पर कन्नी काटते रहेंगे। खुटार BMO जबकि जिला से लेकर स्वास्थ्य केंद्रों तक कोरोना काल से अब तक बहुत से संविदा नियुक्ति कर कार्य करवाया जा रहा है। वही गार्ड से लेकर सफाई कर्मी तक की भर्ती करवाई जा रही है। लेकिन एक्स-रे मशीन बंद कमरे में ही बंद होकर रह गई। वही जिले में तमाम एक्स-रे का अनुभव रखने वाले लोग है जो प्राइवेट एक्स-रे सेंटरों पर एक्स-रे करने का काम करते है अगर संविदा नियुक्ति की जाती तो कब का एक्स-रे मशीन का संचालन शुरू हो जाता और मरीजो को परेशान न होना पड़ता। अब देखना ये है की स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन मरीजो की परेशानी को देखते हुए एक्स-रे मशीन का संचालन कब तक शुरू करती है या यूं ही एक्स-रे मशीन बंद कमरे में धूल फांकती रहेगी।

यह भी पढ़ें…कुंभ: दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर भड़के नरोत्तम मिश्रा, कही ये बड़ी बात