उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madya pradesh) में आज से बीजेपी विधायकों (bjp mlas) का दो दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग शुरू किया जा रहा है। यह प्रशिक्षण वर्ग उज्जैन (ujjain) में आयोजित किया जाएगा। कुछ देर में शुरू होने वाले इस प्रशिक्षण वर्ग में इस बार बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) भी शामिल होंगे। वहीं कांग्रेस (congress) ने बीजेपी के दो दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग पर जमकर निशाना साधा है।

दरअसल बीजेपी विधायकों का प्रशिक्षण वर्ग शुक्रवार से शुरू हो रहा है। इस प्रशिक्षण वर्ग में सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश (shivprakash) में शामिल होंगे। इसके अलावा पहली बार इस प्रशिक्षण में ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल होंगे। यह प्रशिक्षण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan), प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा (vd sharma) की अध्यक्षता में किया जा रहा है।

126 भाजपा, सपा सहित निर्दलीय विधायक भी रहेंगे शामिल 

कांग्रेस से बीजेपी में आए विधायकों को वर्ग में बुलाया गया है। जहां संगठन के साथ समन्वय, आचार, व्यवहार, व्यक्तित्व और संगठन की विचारधारा विधायकों को समझाई जाएगी। इसके अलावा राष्ट्रीय स्तर पर चल रहे विवाद और उसके पीछे के षड्यंत्र को भी चर्चा का विषय बनाया जाएगा। इस प्रशिक्षण वर्ग में कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया समर्थक सभी MLA सहित 126 भाजपा, सपा सहित निर्दलीय विधायक भी शामिल रहेंगे। इसके साथ ही बीजेपी और संगठन की नीतियों से विधायकों को अवगत कराया जाएगा।

Read More:  MP School: स्कूल फीस को लेकर बढ़ा विवाद, मंत्री इंदर सिंह परमार करेंगे स्थिति स्पष्ट!

कांग्रेस ने जमकर साधा निशाना 

वही दो दिवसीय प्रशिक्षण से पहले बीजेपी विधायक के प्रशिक्षण वर्ग पर कांग्रेस ने जमकर निशाना साधा है। सिंधिया समर्थकों के बीजेपी प्रशिक्षण वर्ग में शामिल होने को लेकर पूर्व विधायक पीसी शर्मा (PC Sharma) ने तंज कसा है।पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि महाकाल की नगरी में जनसेवा का प्रशिक्षण दिया जाए तो सही है। किंतु बीजेपी वालों ने पहले लोगों को दल बदलना और पैसे लेना सिखाया और अब प्रशिक्षण शिविर में बीजेपी सिंधिया समर्थकों को झूठ बोलो और जोर से झूठ बोलकर अपनी बात सिद्ध करने का हुनर सिखाएगी।

ज्ञात हो कि कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए विधायकों को लेकर लगातार बीजेपी के पुराने और वरिष्ठ नेताओं का एक सवाल मशहूर है कि क्या कांग्रेस से बीजेपी में आए लोग बीजेपी और संगठन की विचारधारा को समझ पाएंगे। ऐसी स्थिति में यह प्रशिक्षण उन सवालों के लिए एक बेहतर उत्तर माना जा रहा है।