नक्सलियों

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ (chhattisgarh) के नक्सली प्रभावित (naxal influenced) जिले बीजापुर (bijapur) में एक बार फिर नक्सलियों और सुरक्षाकर्मियों की मुठभेड़ (encounter) हुई। इस मुठभेड़ में लगभग 23 सुरक्षाकर्मियों के शहीद (martyr) होने की खबर है। 23 शवों को निकाला जा चुका है। अब तक तकरीबन 30 जवानों को अस्पताल में भर्ती करवाया जा चुका है। इसकी पुष्टी बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने की है।

इस बड़ी नक्सली घटना को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्री अमित शाह असम में अपना चुनाव प्रचार छोड़कर वापस दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। गुवाहाटी में रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली हमले का ज़िक्र किया और कहा कि सभी जवानों को नमन करता हूँ और सभी देशवासियों को और शहीद जवानों के परिवारों को आश्वासन दिलाता हूँ कि किसी भी जवान की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी।

पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी द्वारा दी गयी जानकारी के मुताबिक शनिवार को सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम नक्सल विरोधी अभियान के लिए निकले थे। ऐसे में यहां पर उनकी नक्सलियों से मुठभेड़ हो गयी। कई दिनों से सुरक्षाबलों को  प्रतिबंधित सीपीआई यानी कि माओवादी के मुख्य नक्सली मादवि हिडमा के ठिकाने के बारे में सूचना मिल रही थी। बता दें कि मादवि हिडमा का नाम झीरम घाटी में हुए कई बड़े हमलों से जुड़ा है।

यह भी पढ़ें… Dewas News: उत्कृष्ट विद्यालय में कोरोना विस्फोट, दर्जनभर छात्र और शिक्षक संक्रमित

पीएम मोदी और गृहमंत्री ने जताया दुख
छत्तीसगढ़ में हुई नक्सलियों और जवानों की मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों के प्रति शोक व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं छत्तीसगढ़ मेरी सहानुभूति नक्सलियों से लड़ते हुए शहीद हो जाने वाले जवानों के परिवार के साथ है। किसी भी जवान की शहादत हो भुलाया नहीं जा सकता। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।
वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर जवानों की शहादत पर शोक व्यक्त किया है।