खुशखबरी : कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, अब इस वेतनमान के अनुसार मिलेगी सैलरी, कैबिनेट ने दी मंजूरी, इस तरह मिलेगा लाभ

Pooja Khodani
Published on -
salary news

Employees Pay Scale : पंजाब के गडवासू के कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। राज्य की भगवंत मान सरकार ने कर्मचारियों को बड़ा तोहफा तोहफा दिया है। राज्य सरकार ने ‘गुरु अंगद देव पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय’ (GADVASU) के शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के वेतनमान को लागू करने की मंजूरी दे दी है।वही सफाई सेवकों को भी एकसमान वेतन का लाभ देने का फैसला लिया गया है।

वेतनमान को मंजूरी

कैबिनेट के इस फैसले से यूजीसी के वेतनमान को लागू करने के फैसले से पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय के शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को पंजाब को अग्रणी बनाने के लिए ठोस प्रयास करने में मदद मिलेगी। सीएम भगवंत मान ने बताया कि पहले PAU मास्टर कैडर के वैज्ञानिकों को UGC के अनुसार वेतन स्केल दिया था। अब गुरु अंगद देव वेटरनरी एवं एनिमल साइंसिस यूनिवर्सिटी  लुधियाना के अध्यापक या उनके समान कैडर/स्टाफ के कर्मचारियों को भी UGC के संशोधित तनख्वाह स्केल के दायरे में लाया गया है।  अगली बारी PTU की है, जिनके पक्ष में फैसला लिया जाएगा।

सफाई सेवकों को एकसमान वेतन

राज्य के 582 सिविल वेटरिनरी अस्पतालों में वेटरिनरी फार्मासिस्टों और सफाई सेवकों जैसे सर्विस प्रोवाइडरों के कार्यकाल में एक अप्रैल 2023 से 31 मार्च, 2024 तक वृद्धि को मंजूरी दे दी है। यह फैसला भी लिया गया है कि मानदेय में समानता लाने के लिए इन सभी सर्विस प्रोवाइडरों को डीसी रेट मुहैया किए जाएं। उल्लेखनीय है कि सरकार ने इन 582 सिविल वेटरिनरी अस्पतालों (ग्रामीण वेटरेनरी अफसरों के मंजूर पदों सहित) को ग्रामीण विकास एवं पंचायत विभाग के अधीन जिला परिषद के प्रबंधन से हटाकर वापस पशु पालन, मछली पालन और डेयरी विकास विभाग के अधीन कर दिया था। इनमें से कुछ सफाई सेवक न्यूनतम वेज ले रहे हैं और कुछ को न्यूनतम वेज से भी कम केवल 6 हजार रुपए दिए जा रहे हैं। लेकिन पंजाब सरकार ने अब उनकी नौकरी में एक साल बढ़ोतरी का फैसला किया है। साथ ही सभी सफाई सेवकों को एकसमान वेतन दिया जाएगा।


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News