भारतीय सेना में बड़ा बदलाव, खत्म हुई अंग्रेजों के जमाने की परम्पराएं, कई प्रथाओं के बदलेंगे नाम

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Indian Army

Indian Army To End Many Colonial Practices: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश पर भारतीय सेना ने अपनी कई पुरानी परंपराओं को खत्म करने का फैसला लिया है। इनमें में ढेरों परम्पराएं ऐसी हैं, जो ब्रिटिश राज से ही चलती आ रही है। वहीं कुछ प्रथाओं के नाम बदलेंगे जाएंगे। सरकार के निर्देश के पालन करते हुए जनरल मनोज पांडे के नेतृत्व में कार्यक्रमों के दौरान घोड़े से चलने वाली बग्घियों के इस्तेमाल को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा सेवानिवृति पर पुलिंग आउट सेरेमनी और डिनर के दौरान पाइपर्स के उपयोग को भी खत्म करने का निर्णय लिया है।

सरकारी निर्देश के अनुसार इंडियन आर्मी कूँच यूनिट के अंग्रेजी नामों, सड़कों, प्रतिष्ठानों, भवनों, किचनर हाउस, पार्कों और अन्य कई संस्थाओं के नाम बदलने की समीक्षा भी कर रही है। अब तक इसके कई मामलों में एक्शन भी लिया जा चुका है। बता दें बग्घियों के घोड़ों को ट्रेनिंग के दौरान उपलब्ध करवाया जाएगा। वहीं पोस्टिंग या रिटायरमेंट कर दौरान पुलिंग आउट समारोह में कमांडिंग ऑफिसर के वाहन को यूनिट में अधिकारियों और सैनिकों द्वारा उनकी पोस्टिंग पर खींचा जाता था। इस मामले में सेना के अधिकारी ने कहा कि क्योंकि अब अधिकारी दिल्ली के बाहर तैनात होते हैं, इसलिए उनके वाहनों को नहीं खींचा जात।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"