सीएम डॉ मोहन यादव बोले नाक रगड़कर माफ़ी मांगें राहुल गांधी, योगी आदित्यनाथ ने कहा हमें लगा था कि नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद परिपक्व हो जायेंगे

मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि राहुल गांधी के बयान की मैं घोर भर्त्सना करता हूँ उनके बयान से  पूरा हिंदू समाज लज्जित हुआ है, नेता प्रतिपक्ष द्वारा हिन्दुओं को सांसद में जिस प्रकार हिन्दू समाज को हिंसक बताया है ये उनकी कुत्सिक मानसिकता है ।

Atul Saxena
Published on -
Yogi Rahul Dr Mohan Yadav

Rahul Gandhi called Hindus violent : नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी द्वारा हिंदू को हिंसक कहने पर देश की सियासत गरमा गई है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह सहित सरकार के कई मंत्रियों ने राहुल गांधी के बयान पर लोकसभा में आपत्ति जताई, अब सदन के बाहर से भी राहुल गांधी के बयान की निंदा और भर्त्सना हो रही है, उनसे माफ़ी मांगने की मांग की जा रही है।

नाक रगड़कर माफ़ी मांगें राहुल : डॉ मोहन यादव 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि राहुल गांधी के बयान की मैं घोर भर्त्सना करता हूँ उनके बयान से  पूरा हिंदू समाज लज्जित हुआ है, नेता प्रतिपक्ष द्वारा हिन्दुओं को सांसद में जिस प्रकार हिन्दू समाज को हिंसक बताया है ये उनकी कुत्सिक मानसिकता है,  पूरे देश में इसे लेकर उबाल है उन्हें नाक रगड़कर माफ़ी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस स्पष्ट करे वो राहुल के बयान से इत्तेफाक रखती है या नहीं 

सीएम मोहन यादव ने कहा मैं गर्व से कहता हूँ कि मैं हिंदू हूँ, उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व से कहा कि तत्काल राहुल गांधी से माफ़ी मांगने के लिए कहें इससे सम्पूर्ण हिंदू समाज की भावना आहत हुई है, मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी के बयान से कांग्रेस इत्तेफाक रखती है या नहीं ये भी वो स्पष्ट करे।

योगी बोले – ये अपरिपक्व बुद्धि के व्यक्ति का बचकाना बयान है

उधर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राहुल गांधी के बयान पर आपत्ति जताई है , उन्होंने कहा कि हमें लगा था कि नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद राहुल गांधी परिपक्व हो जायेंगे लेकिन मुझे खेद हो रहा है। राहुल गांधी का बयान अपरिपक्व बुद्धि के व्यक्ति का बचकाना बयान है, योगी ने कहा कि हिंदू भारत का मूल समाज है, भारत की आत्मा है , उन्होंने कहा कि हिंदू कोई जाति, सम्प्रदाय, मत और पंथ सूचक नहीं है ये भारत की मूल आत्मा है। राहुल गांधी का बयान सत्य से परे है, भारत की मूल आत्मा को लहूलुहान करने जैसा है। राहुल गांधी को माफ़ी मांगनी चाहिए।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News