सीएम के अजब बयान के बाद कुंभ पर कोरोना का साया

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि महाकुंभ की तुलना मरकज से नहीं का जा सकती है। क्योंकि गंगा मां के आशीर्वाद से यहां कोरोना नहीं फैलेगा।

हरिद्वार, डेस्क रिपोर्ट। हरिद्वार (Haridwar) में 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या (Somvati amavasya) का शाही स्नान कड़ी चुनौती और संतों की नाराजगी के बाद भी निर्धारित समय पर पूरा हुआ। सोमवती अमावस्या पर हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Mahakumbh) में दूसरे शाही स्नान में करीब 31 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा की आस्था की डुबकी लगाई। हरकी पौड़ी पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ की फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने इस भीड़ की तुलना पिछले साल दिल्ली स्थित निजामुद्दीन दरगाह में हुए मरकज से की। जिसके जवाब में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत (Chief Minister Tirath Singh Rawat) ने कहा कि महाकुंभ की तुलना मरकज से नहीं का जा सकती है। क्योंकि मरकज एक हॉल के अंदर था। लेकिन कुंभ में ऐसा नहीं है। गंगा मां के आशीर्वाद से यहां कोरोना नहीं फैलेगा।

यह भी पढ़ें:-कैट की मांग, लॉकडाउन की स्थिति में व्यापारियों को मुआवजा दे सरकार

मरकज और कुंभ की कोई तुलना नहीं

शाही स्नान के संपन्न होने के बाद सोमवार शाम को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने वर्जुअल प्रेस वार्ता की थी। सीएम ने कहा कि हरिद्वार में 16 घाट हैं और महाकुंभ केवल हरिद्वार शहर में ही नहीं बल्कि ऋषिकेश से लेकर नीलकंठ तक फैल हुआ है। ऐसे में कई घाट स्वर्ग आश्रम, त्रिवेणी घाट और लक्ष्मण झूला यहां तक मौजूद हैं। लोग एक ही जगह पर स्नान नहीं कर रहे थे। उन्होंने बताया कि अखाड़ों को भी शाही स्नान का समय दिया गया था। एक अखाड़ा के जाने के बाद ही दूसरे अखाड़े ने शाही स्नान किया। इसीलिए इसकी तुलना मरकज से कैसे की जा सकती है? हरिद्वार कुंभ को मरकज से तुलना नहीं हो सकती है। मरकज एक घर के अंदर सिमटा हुआ था और महाकुंभ क्षेत्र कई किमी में फैला हुआ है। इसके अलावा गंगा के पास है, इसीलिए तुलना का तो कोई विषय ही नहीं उठता है।

कई साधु कोरोना पॉजिटिव

हरिद्वार महाकुंभ में शाही स्नान में तमाम अखाड़ों के साधु-संतों ने आस्था की डुबकी लगाई। शाही स्नान के दौरान कोरोना नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। कई साधु कोरोना पॉजिटिव भी मिले हैं। बावजूद इसके कोरोना नियमों का पालन कराने में उत्तराखंड पुलिस अक्षम दिखाई दे रही है। जानकारी के अनुसार 50 हजार लोगों का टेस्ट किया जा रहा है, कई साधु पॉजिटिव पाए गए हैं, आगे भी लोगों का टेस्ट किया जा रहा है। जिससे कि कई संक्रमित मिलने की संभावना है।

कुंभ मेले को लेकर सेलेब्स ने जताई नाराजगी

हरिद्वार में चल रहे कुंभ मेले को लेकर भी कई सेलेब्स ने सवाल खड़े किए हैं। मशहूर फिल्ममेकर रामगोपाल वर्मा ने कुंभ आयोजन को लेकर नाराजगी जाहिर की है। रामू ने ट्विटर पर कुंभ स्नान को लेकर सवाल उठाते हुए कहा- जो आप देख रहे हैं वो कुंभ मेला नहीं बल्कि कोरोना एटम बम है। मैं हैरान हूं कि इस वाइरल एक्सप्लोजन का दोषी आखिर कौन होगा? वहीं, फुकरे की एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा ने ने भी महाकुंभ पर निशाना साधा है। एक वीडियो शेयर करते हुए ऋचा ने इसे कोरोना महामारी फैलाने वाला इवेंट बताया है। ऋचा चड्ढा ने अपने ट्वीट में लिखा-सबसे ज्यादा फैलाने वाला इवेंट। ऋचा चड्ढा के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स जमकर रिएक्शन दे रहे हैं। कुछ लोग जहां एक्ट्रेस की आलोचना कर रहे हैं, वहीं कई लोग उनके समर्थन में भी हैं।