कांग्रेस विधायक का निधन, पार्टी में शोक लहर, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

कांगड़ा के फतेहपुर से विधायक रहे कांग्रेस  पठानिया (Congress MLA) लंबे समय से बीमार चल रहे थे।उनके निधन की खबर लगते ही पार्टी में शोक की लहर है। कांग्रेस के नेताओं ने उनके निधन पर शोक जताया है।

कांग्रेस

धर्मशाला, डेस्क रिपोर्ट। कांग्रेस (Congress) को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक सुजान सिंह पठानिया (Sujan Singh Pathania) का निधन हो गया है। कांगड़ा के फतेहपुर से विधायक रहे कांग्रेस  पठानिया (Congress MLA) लंबे समय से बीमार चल रहे थे।उनके निधन की खबर लगते ही पार्टी में शोक की लहर है। कांग्रेस के नेताओं ने उनके निधन पर शोक जताया है।

यह भी पढ़े… MP News: शिक्षा विभाग की अनुकंपा नियुक्ति में फंसा पेंच, परेशानी में आवेदक, यह है मामला

मिली जानकारी के अनुसार, करीब 78 वर्षीय सुजान सिंह पठानिया पिछले कई सालों से विभिन्न बीमारियों से ग्रसित थे। लंबे समय से उनका चंडीगढ़ व लुधियाना (Chandigarh And Ludhiana) में इलाज चल रहा था।78 वर्ष की उम्र में शुक्रवार सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। वह लम्बे समय से बीमार चल रहे थे।पठानिया कांग्रेस (Congress) के सीनियर और दिग्गज नेताओं में से एक थे। अपने जीवन काल में 11 बार चुनाव लड़े, इसमें सात बार उनकी जीत हुई और चार बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा। वह वीरभद्र सिंह के करीबी माने जाते थे, उन्हें हैंडपंप लगाने वाले मंत्री के तौर पर भी जाना जाता है।

यह भी पढ़े.. ज्योतिरादित्य सिंधिया का बड़ा बयान- शिव’राज’ के अधिकार क्षेत्र पर टिप्पणी उचित नहीं

हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर (Himachal CM Jairam Thakur) ने भी फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र (Fatehpur Assembly Constituency) के विधायक एवं पूर्व मंत्री सुजान सिंह पठानिया जी के निधन पर शोक जताया है। पठानिया के निधन का दुःखद समाचार मिला है. सरल स्वभाव के धनी पठानिया जी ने सदैव समर्पणभाव से जनसेवा की है, जो प्रेरणादायक है।ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें तथा शोकग्रस्त उनके परिवार को संबल प्रदान करें।

ऐसा रहा राजनैतिक सफर

  • कांगड़ा के विधानसभा क्षेत्र फतेहपुर के विधायक
  • साल 1982-83 में राज्य वन निगम का उपाध्यक्ष (Vice Chairman of State Forest Corporation)।
  • साल 1984-85 में वह हिमाचल के हाउसिंग बोर्ड और कृषि मंत्री (Housing Board and Minister of Agriculture) ।
  • 1995 से लेकर 1998 तक वह सरकार में परिवहन मंत्री (Transport Minister) ।
  • पठानिया वीरभद्र सिंह के करीबी थे।
  • वीरभद्र सरकार में वह दो बार प्रदेश के मंत्री ।
  • 2019 के पूर्व कांग्रेस सरकार में वह ऊर्जा मंत्री (Energy Minister) थे।
  • प्रदेश में उन्हें हैंडपंपों वाला मंत्री के नाम से भी जाना जाता है।
  • सुजान सिंह पठानिया का जन्म 22 सितंबर 1943 को पाकिस्‍तान के लाहौर में हुआ था।
  • बीए करने के बाद फॉरेस्ट रेंजर्स कॉलेज देहरादून से फॉरेस्ट्री में दो साल का प्रशिक्षण हासिल किया।
  • हिमाचल प्रदेश के वन विभाग में रेंज अधिकारी के तौर पर सेवाएं दीं।
  • जनता पार्टी में शामिल होने के लिए 1977 में सरकारी नौकरी से इस्तीफा ।
  • 1980 में कांग्रेस में शामिल ।
  • 1977 में राज्य विधान सभा के लिए निर्वाचित हुए।
  • 1990, 1993, 2003 नवंबर, 2009 (उपचुनाव) में जवाली विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से और 2012 में फतेहपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से पुन: निर्वाचित हुए।
  • 2007 में परिसीमन से पहले फतेहपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र को जवाली के रूप में जाना जाता था।
  • 2012 से 20 दिसंबर 2017 तक ऊर्जा मंत्री गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों के अतिरिक्त प्रभार के साथ कृषि मंत्री ।
  • हिमाचल प्रदेश की 13वीं विधानसभा में दिसंबर 2017 में 7वीं बार विधायक चुने गये थे।
  • 11 बार लड़ा चुनाव लड़ा, 4 बार हारे और 7 बार जीते।
  • 1977 में पहला चुनाव लड़ा था। 1982, 85, 92 और 2007 में चुनावों में हार गए थे।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here