23 अगस्त को ज्वेलर्स की देशव्यापी हड़ताल, 350 एसोसिएशन और फेडरेशन होंगे शामिल

दिल्ली,डेस्क रिपोर्ट। स्वर्ण व्यवसायी 23 अगस्त को सांकेतिक हड़ताल कर रहे है। उनकी नाराजगी देश भर में सोने के गहनों की अनिवार्य हॉलमार्किंग को लेकर है। उनका आरोप है कि सरकार मनमाने ढंग से इसे लागू कर रही है। जिसके खिलाफ 23 अगस्त को पूरे देश भर के ज्वेलर्स सांकेतिक हड़ताल करेंगे । ऑल इंडिया जेम एंड ज्वैलरी डोमेस्टिक काउंसिल (जीजेसी) ने इसकी जानकारी दी है। इस हड़ताल में जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री से जुड़े सभी चार जोन के 350 एसोसिएशन और फेडरेशन का सपोर्ट मिलेगा।

Jabalpur News : मेरे बाद सोनू का ध्यान रखना, इतना बोलकर युवक ने किया मोबाइल बंद और नदी में लगा दी छलांग !

दरअसल सरकार ने 16 जून 2021 से देश भर में गोल्ड ज्वेलरी पर हॉलमार्किंग को अनिवार्य कर दिया है। हॉलमार्क सरकारी गारंटी होती है। हॉलमार्क भारत की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) देती है। हॉलमार्किंग में किसी प्रोडक्ट को तय मापदंडों पर प्रमाणित किया जाता है। बीआईएस वह संस्था है, जो ग्राहकों को उपलब्ध कराए जा रहे सोने की जांच करती है। सोने के सिक्के या गहने पर हॉलमार्क के साथ बीआईएस का लोगो लगाना जरूरी है। इससे पता चलता है कि बीआईएस की लाइसेंस वाली लैब में इसकी शुद्धता की जांच की गई है।

सरकार ने इस नियम को देश के 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 256 जिलों में लागू किया है। सोने की हॉलमार्किंग से उसकी शुद्धता का पता चलता है। ज्वेलर्स एसोसिएशन के कहना है कि यह कानून अव्यावहारिक और असंभव है। और इसी के विरोध में यह हमारा शांतिपूर्ण सांकेतिक प्रदर्शन है।