पेंशनरों के लिए खुशखबरी, जल्द होगी पेंशन राशि में वृद्धि, मिलेंगे अन्य कई लाभ, प्रस्ताव तैयार

उत्तर प्रदेश में दिव्यांगजन को मिल रही 1,000 रुपये की पेंशन को 1,500 रुपये प्रतिमाह करने का प्रस्ताव तैयार हो गया है और जल्द ही पेंशनरों को 1,500 रुपये की पेंशन मिलने लगेगी। 

pensioners pension
demo pic

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश के दिव्यांग पेंशनरों के लिए खुशखबरी है। यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। उत्तर प्रदेश सरकार दिव्यांगों की पेंशन 1000 रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये करने जा रही है।इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है और जल्द ही इसे कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।वही अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगे।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, मंत्रालय ने जारी किए ये खास निर्देश, मिलेगा लाभ, जानें नियम-शर्तें

शनिवार को सेवा पखवाड़ा के तहत नेहरू नगर स्थित सामुदायिक केंद्र में दिव्यांगजनों को निश्शुल्क कृत्रिम अंग सहायक उपकरण वितरण के लिए आयोजित कार्यक्रम में पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन विभाग के मंत्री नरेंद्र कश्यप ने इसका ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दिव्यांगजन को मिल रही 1,000 रुपये की पेंशन को 1,500 रुपये प्रतिमाह करने का प्रस्ताव तैयार हो गया है और जल्द ही पेंशनरों को 1,500 रुपये की पेंशन मिलने लगेगी।

राज्यमंत्री ने कहा कि दिव्यांगजनों का भरण पोषण के लिए वर्ष 2017 में केवल 300 रुपये प्रतिमाह दिया जाता था, वो अब वर्तमान सरकार में बढ़ाकर 1,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है। आने वाले समय में इस राशि को 1,500 रुपये प्रतिमाह करने के लिए प्रस्ताव बन चुका है। वर्तमान सरकार में प्रत्येक लोकसभा की सीट पर 100 मोटराइज्ड़ ट्राईसाइकिल निश्शुल्क दिव्यांगजनों को हम बांटेंगे जिसकी कीमत 42 हजार रुपये है, जिसका पूरा खर्च सरकार वहन करेगी।

यह भी पढ़े..MP: विभाग की बड़ी तैयारी, 65000 छात्रों का डाटा अपलोड, दी जाएगी ट्रेनिंग, मिलेगा कैम्पस प्लेसमेंट का लाभ

इससे पहले दिव्यांगजन एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नरेन्द्र कश्यप ने कहा था कि उत्तर प्रदेश सरकार दिव्यांगजन की पेंशन एक हजार रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये करने जा रही है। वही दिव्यांगजन को कौशल विकास के बाद अपना रोजगार शुरू करने के लिए आसानी से कर्ज भी उपलब्ध कराया जाएगा।नई शिक्षा नीति के अनुसार दिव्यांग बालक एवं बालिकाओं को जूनियर, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्तर पर विद्यालयों में दाखिला भी दिलाया जाएगा। दिव्यांगजनों को और अधिक सुविधाएं देने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है।