भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कहते हैं गरीबी जो न कराए कम है। कई बार गरीबी अपराध को भी जन्म देती है और ऐसा ही मामला देखने को मिला उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में। यहां एक महिला ने अपने ही तीन महीने के मासूम बच्चे को बेच दिया और फिर पुलिस के सामने उसके अपहरण की झूठी कहानी गढ़ दी।

गाड़ियों में प्रयोग होने वाला ब्रांडेड कंपनियों का नकली ऑयल बनाने वाली फैक्ट्री पकड़ी

घटना गोरखनाथ थाना क्षेत्र के इलाहीबाग की है। यहा रहने वाली सलमा खातून ने अपने 3 महीने के बेटे के अपहरण की रिपोर्ट लिखाई थी। इस मामले में पुलिस ने जब तफ्तीश की तो मां खुद संदेह के घेरे में आ गई। महिला का कहना था कि रसूलपुर इलाके में शहनाई मैरिज हॉल के पास एक महिला ने उसके बेटे को छीन लिया और कार में बैठकर फरार हो गई।  इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की। लेकिन पूछताछ में महिला बार बार अपना बयान बदल रही थी जिसके बाद पुलिस को शक हुआ। जब इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए तो मामले का खुलासा हुआ कि खुद मां ने ही अपना बच्चा किसी और महिला के सुपुर्द किया और फिर वो महिला बच्चे को लेकर रिक्शे में कहीं चली गई। इसके बाद पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो महिला ने स्वीकार किया कि उसी ने अपने बेटे को 50 हजार रूपये में बेच दिया है। उसका पति कचरा बीनने का काम करता है और गरीबी से परेशान होकर उसने ये कदम उठाया। पुलिस ने बच्चे को बरामद कर लिया है और मां के खिलाफ केस दर्ज किया है।