अब ज्यादा समय नहीं लगेगा अयोध्या में राम मंदिर को पूरा होने में, आ चुकी है रिपोर्ट

अयोध्या, राम मंदिर निर्माण समिति ने मंगलवार को एक बयान कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर के अधिरचना का निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा। जबकि गर्भगृह का निर्माण पूरा होने वाला है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। अयोध्या, राम मंदिर निर्माण समिति ने मंगलवार को एक बयान कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर के अधिरचना का निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा। जबकि गर्भगृह का निर्माण पूरा होने वाला है। समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा ने बताया कि “गर्भगृह का काम दिसंबर 2023 तक पूरा हो जाएगा, जबकि मंदिर का शेष काम दिसंबर 2024 तक पूरा होगा।” हमे पूरी उम्मीद है कि 2024 की शुरुआत में मंदिर को जनता के लिए खोल दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – कोतवाली पुलिस की बड़ी कार्यवाही, 25 जुआरियों सहित 8 लाख 49 हजार 700 रूपए एवं 20 मोबाइल किए जप्त

मंदिर में चबूतरे ग्रेनाइट पत्थर से बन रहे हैं। जिसका काम इस साल ही फरवरी में शुरू हुआ था। उम्मीद है कि इसका काम अगस्त तक पूरा हो जायेगा। यह पत्थर कर्नाटक और आंध्र प्रदेश से खरीदे जा रहे हैं। इस प्लिंथ को बनाने में लगभग 17,000 पत्थरों का इस्तेमाल किया जाएगा। रेल मंत्रालय के अधीन काम करने वाला भारतीय कंटेनर निगम, ग्रेनाइट को अयोध्या तक पहुंचा रहा है।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 18 मई 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

अधिकारी मिश्रा ने बताया कि मंदिर के अधिरचना पर राजस्थान के बंसी पहाड़पुर पत्थर की नक्काशी की जाएगी। उन्होंने कहा कि नक्काशी का काम पहले ही शुरू हो चुका है। अब तक, लगभग 75,000 सीएफटी (घन फुट) पत्थर की नक्काशी पूरी हो चुकी है, जबकि अकेले अधिरचना के लिए कुल आवश्यकता 4.45 लाख सीएफटी पत्थर है।

यह भी पढ़ें – मध्य प्रदेश के आदिवासियों द्वारा बनाई जाने वाली महुआ शराब होगी हेरिटेज में शामिल

समिति के अनुसार तीन मंजिला मंदिर का काम तय कार्यक्रम के मुताबिक चल रहा है। निचले प्लिंथ के डिजाइन और ड्राइंग को भी अंतिम रूप दिया गया है – सादे सीमेंट और कंक्रीट के साथ का ग्रेनाइट और मिर्जापुर पत्थर की परतों का उपयोग करके जमीन के नीचे बनाया जायेगा जिसका काम 1 जून तक पूरा हो जायेगा। योजना के तहत परकोटा (परिधि की दीवार) की नींव का डिजाइन और ड्राइंग भी तकनीकी जांच के अंतिम चरण में है।

यह भी पढ़ें – Damoh News: कचोरा शॉपिंग सेंटर में मजदूर की रक्तरंजित लाश मिलने से फैली सनसनी

तीर्थयात्रियों की सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखते हुए विभिन्न विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। तीर्थयात्रियों की बढ़ती संख्या के साथ मॉड्यूलर जोड़ के प्रावधान के साथ अयोध्या में एक तीर्थ सुविधा केंद्र भी बनाया जा रहा है। तदनुसार, परिसर के भीतर उपयोगिता सेवाओं की भी योजना बनाई गई है।