Cabinet Meeting: मोदी सरकार ने इस प्रस्ताव को दी मंजूरी, करोड़ों को मिलेगा फायदा

मोदी सरकार की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत दिवाली तक प्रति सदस्य अतिरिक्त 5 किलो फ्री राशन (चावल/गेहूं) मिलेगा

मोदी सरकार आरक्षण
PM MODI

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज बुधवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट बैठक में गरीबों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। मोदी सरकार (Modi Government) ने कैबिनेट बैठक में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PM Gareeb Kalyan Ann Yojana) को नवंबर तक चालू रखने को मंजूरी दे दी है। इसके तहत अब गरीबों को 21 नवंबर तक मुफ्त राशन दिया जाएगा।इसके तहत 80 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़े.. पीएम नरेंद्र मोदी ने की मध्य प्रदेश की तारीफ, बोले- इससे राज्य का होगा तेजी से विकास

दरअसल, पिछले साल लॉकडाउन और कोरोना की पहली लहर के दौरान मोदी सरकार द्वारा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का ऐलान किया गया था, इसके तहत सरकार ने 80 करोड़ से अधिक राशनकार्ड धारकों को अप्रैल, मई और जून 2020 के लिए राशन कार्ड में दर्ज सदस्यों के आधार पर प्रति व्यक्ति पांच किलो अनाज (गेहूं अथवा चावल) और प्रति परिवार एक किलो दाल मुफ्त देने की घोषणा की थी, लेकिन अब योजना के तहत फ्री राशन मिलने की अवधि को 5 महीने तक बढ़ा दिया गया है. पहले योजना के तहत जून 2021 तक गरीब परिवारों को फ्री राशन मिलना था।

मोदी सरकार की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत दिवाली तक प्रति सदस्य अतिरिक्त 5 किलो फ्री राशन (चावल/गेहूं) मिलेगा। यानी प्रति सदस्य 10 किलो राशन मिलेगा, जिसमें से केवल 5 किलो राशन की कीमत चुकानी होगी।पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना में सरकार ने पिछले साल 90,000 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किया था। अगर इसमें और 3 महीने का खर्च जोड़ दिया जाए तो यह करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपये हो जाता है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के 14 जिलों में भारी बारिश की संभावना, बिजली गिरने के भी आसार

बता दे कि देश में 81.35 करोड़ राशनकार्ड धारक हैं। जुलाई से नवंबर तक 81 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को अतिरिक्त फ्री राशन उपलब्ध कराने के लिए अनुमानित 64,031 करोड़ रुपये की खाद्य सब्सिडी (food subsidy) की जरूरत होगी। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना पर होने वाला पूरा खर्च मोदी सरकार वहन कर रही है। इस खर्च में राज्य व केन्द्र शासित प्रदेशों का कोई योगदान नहीं है।