Pragati Maidan Corridor : मोदी ने दिया हिंदुस्तान को संदेश, स्वच्छता सिर्फ अभियान नहीं हम सभी की ज़िम्मेदारी है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रगति मैदान एकीकृत ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना की मुख्य सुरंग और पांच अंडरपास का उद्घाटन किया, जो प्रगति मैदान पुनर्विकास अभ्यास का एक अभिन्न अंग है। प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना 920 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाई गई है और पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रगति मैदान एकीकृत ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना की मुख्य सुरंग और पांच अंडरपास का उद्घाटन किया, जो प्रगति मैदान पुनर्विकास अभ्यास का एक अभिन्न अंग है। प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना 920 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाई गई है और पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है।

Read More : India Post खाताधारकों के लिए खुशखबरी, WhatsApp पर जल्द ही मिलेगी यह सुविधा

इसका उद्देश्य प्रगति मैदान में विकसित की जा रही नई विश्व स्तरीय प्रदर्शनी और कन्वेंशन सेंटर तक परेशानी मुक्त और सुगम पहुंच प्रदान करना है ताकि वहां आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में प्रदर्शकों और आगंतुकों की आसानी से भागीदारी हो सके।

Read More : Hyundai की Venue का नया अवतार आपके बजट में, जाने क्या रहेगा खास

सफाई के लिए दिया मार्गदर्शन

वहीँ टनल का निरिक्षण करते समय प्रधानमंत्री मोदी ने देखा कि इतने सुंदर टनल में खाली बोतल पड़ी हुई है। जिसके बाद उन्होंने गाड़ी रुकवाई और उस कचरे को उठाने चले गए और उसे डस्टबिन में डाल दिया। यह उनके स्वच्छता के प्रेम को दिखाता है। वैसे तो यह छोटा सा वाक्या है लेकिन यह लोगों के लिए एक मैसेज की तरह काम कर रहा है। स्वच्छता बनाये रखने के लिए। यदि यह पीएम कर सकते हैं तो मैं और आप क्यों नहीं। यह उनकी स्वच्छता की गंभीरता को दिखाता है।

Read More : Mandi bhav: 19 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

पीएम ने अपने भाषण में कहा कि इसे इतने कम समय में बनाना मुमकिन नहीं था, क्योंकि यह टनल जहाँ बनी है, उसके आस पास सबसे अधिक व्यस्त सड़क है। वहां हर रोज लाखों लोग गुजरते हैं। वहां पर 7 रेलवे लाइन गुजर रही है। पीएम ने आगे श्रमिकों को बधाई देते हुए कहा कि इसे बनाने में अनेक मुसीबत हुई। कई लोगों ने इसे रोकने के लिए दरवाजा खटखटाया। 2 साल कोरोना ने परेशान किया। लेकिन यह नया भारत है समस्याओं का समाधान भी करता है।

Read More : यह भी गुजर जाएगा – नागेश्वर सोनकेसरी

नए संकल्प भी लेता है और उन संकल्पों को सिद्ध करने के लिए हर दिन प्रयास करता है। यह हमारे इंजीनियर यह हमारे श्रमिकों को मई बधाई देता हूँ। उन्होंने जिस जीवड़ता के साथ, मेहनत के साथ और बहुत ही कॉर्डिनेटेड एफर्ट के साथ प्रोजेक्ट मैनजमेंट के साथ काम किया है। यह उत्तम उदाहरण है। जिन श्रमिकों ने अपना पसीना बहाया है मैं उन सभी को बहुत बहुत बधाई देता हूँ। उन सब का अभिनन्दन करता हूँ।