Punjab Politics : कैप्टन अमरिंदर सिंह का इस्तीफा, बोले- अपमानित महसूस कर रहा था

सूत्रों ने कहा कि पूर्व पीसीसी अध्यक्ष सुनील जाखड़ को मुख्यमंत्री पद के नाम पर विचार किया जा रहा है।

लुधियाना, डेस्क रिपोर्ट। पंजाब (Punjab politics) में सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। गुजरात की सियासत में बड़े उलटफेर के बाद अब पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (captain amrinder singh) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही पंजाब के सभी मंत्रियों ने भी इस्तीफा दिया है। वही मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो BJP की तर्ज पर कांग्रेस पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी (sonia gandhi) ने भी  कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से इस्तीफा मांगा था।चर्चाएं तो ये भी है कि इस बयान के बाद कैप्टन की नाराजगी बढ़ गई है और उन्होंने कांग्रेस से किनारा करने के भी संकेत दिए थे।

यह भी पढ़े.. मप्र के चयनित शिक्षकों के लिए बड़ी खुशखबरी, जल्द मिलेगी नियुक्ति! तैयारियां तेज

इस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि जिस तरह से बातचीत हुई उससे मैं खुद को अपमानित महसूस कर रहा हूं। मैंने आज सुबह कांग्रेस अध्यक्ष से बात की, उनसे कहा कि मैं आज इस्तीफा दे दूंगा. हाल के महीनों में यह तीसरी बार है जब मैं विधायकों से मिला हूं.. इसलिए मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया..”

उन्होंने कहा मैं कांग्रेस पार्टी में हूं, अपने समर्थकों से सलाह लूंगा और आगे की कार्रवाई तय करूंगा।
ऐसा माना जाता है कि कैप्टन ने पार्टी में अपने दोस्तों कमलनाथ और मनीष तिवारी से कहा था कि वह “इस तरह के अपमान के साथ पार्टी में जारी नहीं रह सकते”।

इससे पहले दिन में, कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी (sonia gandhi) ने अमरिंदर (amrinder) को पद छोड़ने के लिए कहा था। हालांकि, मुख्यमंत्री ने हार मानने से इनकार कर दिया। सूत्रों ने कहा कि अमरिंदर ने आज सुबह सोनिया से बात की और उनसे कहा कि वह इस तरह के “अपमान” का सामना करने के बजाय पार्टी से इस्तीफा देना पसंद करेंगे। राज्य में अगले साल की शुरुआत में चुनाव होने हैं।

शनिवार को चंडीगढ़ में पार्टी मुख्यालय में जल्द ही कांग्रेस विधायक दल की बैठक होने की उम्मीद है। AICC के पंजाब प्रभारी महासचिव हरीश रावत ने शुक्रवार की रात 11 बजकर 39 मिनट पर ट्वीट कर आज शाम पांच बजे विधायकों की बैठक बुलायी है। सूत्रों ने कहा कि पूर्व पीसीसी अध्यक्ष सुनील जाखड़ को मुख्यमंत्री पद के लिए उन नामों पर विचार किया जा रहा है। सुनील जाखड़, कभी मुख्यमंत्री के सहयोगी हुआ करते थे।

यह भी पढ़े.. मप्र राज्यसभा चुनाव : BJP उम्मीदवार की घोषणा, नए चेहरे को उतारकर सबको चौंकाया

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो हाल ही में नए कांग्रेस अध्यक्ष  नवजोत सिंह सिद्धू (Punjab Congress President Navjot Singh Sidhu) के समर्थकों द्वारा कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोलने और कांग्रेस विधायकों द्वारा दिल्ली में हाईकमान से मुलाकात के बाद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीएम से इस्तीफा मांगा है, जिसके बाद पंजाब की राजनीति में भूचाल आ गया है। सूत्रों की मानें तो कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोनिया गांधी से कहा इस तरह का अपमान काफी हो चुका। यह तीसरी बार हो रहा है, मैं इस तरह के अपमान के साथ पार्टी में नहीं रह सकता। इसी हलचल के बीच आज विधायक दल की बैठक बुलाई गई है।

पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत (Punjab Congress in-charge Harish Rawat) ने ट्विटर के जरिए विधायक दल की बैठक की जानकारी दी है। उन्होंने लिखा एआईसीसी से पंजाब कांग्रेस पार्टी के विधायकों का एक दल मिला है, जिसने कांग्रेस विधायक दल की तुरंत बैठक बुलाने का अनुरोध किया गया है। उनकी मांग पर आज शाम 5 बजे सीएलपी की बैठक बुलाई गई है। इस विधायक दल की बैठक में सभी विधायकों को अनिवार्य रूप से शामिल होने को कहा गया है। इसमें पर्यवेक्षक के तौर पर हरीश रावत और अजय माकन भी संभवतः उपस्थित होंगे।  इस बैठक में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे पर फैसला हो सकता है।

यह भी पढ़े.. मप्र के सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किया ये आदेश, 21 सितंबर से मिलेगा लाभ

वही पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने भी इशारा कर दिया है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने कड़ा फैसला लिया है, इस फैसले से सभी तरह की दिक्कतें खत्म हो जाएंगी।सिद्धू खेमे की ओर से कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की चर्चा है। सूत्रों के मुताबिक नाराज विधायक नवजोत सिंह सिद्धू या सुनील जाखड़ का नाम बतौर अगले विधायक दल के नेता के तौर पर आगे बढ़ा सकते हैं।