देश भर में ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ चलाएगी रेलवे

उत्तर रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक देश भर में 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' चलाई जाएगी। जिसके लिए महाराष्ट्र से 19 अप्रैल को खाली टैंकर रवाना होंगे।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में कोरोना (Covid-19) के प्रकोप के बीच रेलवे अधिकारी की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक विशाखापत्तनम, जमशेदपुर, राउरकेला, बोकारो से ऑक्सीजन लाने के लिए सोमवार से खाली टैंकर महाराष्ट्र से रवाना किए जाएंगे। रेलवे प्रशासन ने ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ (Oxygen Express)च लाने का फैसला लिया है। यह अगले कुछ दिनों में देश भर में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन(Liquid medical oxygen) और ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen cylinder) का परिवहन करेगा।

यह भी पढ़ें:-बड़ी खबर- हरदा में जल्द शुरु होगा ऑक्सीजन प्लांट, कृषि मंत्री ने अधिकारियों को दिए निर्देश

रेलवे अधिकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र सरकार ने लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन टैंकर ले जाए जाने की संभावना का पता लगाने के लिए रेलवे से संपर्क किया है। इसके अलावा उत्तर रेलवे ने दिल्ली के शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन पर 50 आइसोलेशन कोच, जिनमें से प्रत्येक में दो ऑक्सीजन सिलेंडर हैं, को तैनात किया है। इसी तरह के 25 कोच को आनंद विहार पर रखा जाएगा। उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने बताया कि उत्तर रेलवे के पास 463 कोविड-19 आइसोलेशन कोच तैयार हैं जो राज्यों की मांग पर उपलब्ध होंगे। उन्होंने बताया कि आइसोलेशन कोच के लिए राज्यों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा, स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में शुल्क वसूलने का प्रावधान नहीं है। उत्तर रेलवे ने कहा है कि हर आइसोलेशन कोच में दो ऑक्सीजन सिलेंडर होंगे। इसके लिए ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद लिए गए हैं। लेकिन ज्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत होने पर राज्य सरकार को इसकी व्यवस्था करनी होगी।

यह भी पढ़ें:-इंदौर पहुंचे 12 हजार रेमडेसिवीर इंजेक्शन, पूरे प्रदेश में हुए वितरित

इससे पहले दिल्ली के मुख्य सचिव ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से ट्रेन कोच में ऑक्सीजन युक्त 5 हजार बेड्स की व्यवस्था की मांग की थी। दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा को पत्र लिखा। इस पत्र के जरिए विजय कुमार देव ने दिल्ली में कोरोना की गम्भीर स्थिति का हवाला दिया और कहा है कि लगातार बड़ी संख्या में सामने आ रहे कोरोना के नए मामलों से दिल्ली में कोरोना बेड्स की किल्लत पैदा हो गई है। प्राइवेट और सरकारी सभी तरह के अस्पतालों में बेड की भारी कमी है।