बेटी को डॉक्टर बनाने का सपना माँ के लिए हुआ जानलेवा साबित, नाबालिग ने उतारा मौत के घाट

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। बेटी को पढ़ने के लिए बार बार बोलना एक माँ के लिए जानलेवा बन गया, बेटी ने माँ को ही मौत के घाट उतार दिया। नवी मुंबई के ऐरोली इलाके से यह हैरान करने वाला मामला सामने आया है। बार-बार पढ़ने के लिए कहने से नाराज एक 15 वर्षीय लड़की ने अपनी मां की कराटे की बेल्ट से गला घोंटकर हत्या कर दी। मां बेटी को डॉक्टर बनाने का सपना देख रही थी और इसलिए वे बार-बार उसे एंट्रेंस एग्जाम (NEET) के लिए पढ़ने को बोलती थी।

MP : महंगाई के विरोध में सीएम हाउस का घेराव करने पहुंचे युवा कांग्रेस, पुलिस ने किया लाठी चार्ज, कई नेता गिरफ्तार

घटना 30 जुलाई की है, मामले की जांच कर रही पुलिस ने बताया कि 30 जुलाई को शैलेष पवार नाम के व्यक्ति ने सूचना दी कि ऐरोली में रहने वाली उनकी बहन शिल्पा जाधव ने अपने फ्लैट का दरवाजा बंद कर लिया है। मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने पड़ोसियों की सहायता से दरवाजा खोला तो महिला की 15 वर्षीय भांजी और 6 वर्षीय भांजा जमीन पर बैठे हैं, लेकिन बेडरूम का दरवाजा बंद है। इसे तोड़ने के बाद पुलिस ने देखा की शिल्पा जाधव नाम की महिला के गले से कराटे ड्रेस का बेल्ट लिपटा हुआ है और वह जमीन पर बेसुध पड़ी थी। इसके बाद पुलिस ने तुरंत उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने इस मामलें की छानबीन शुरू की तो चौकानें वाली बात सामनें आई , तकरीबन 10 दिन बाद कड़ाई से पूछताछ के दौरान शिल्पा की 15 वर्षीय बेटी ने अपनी मां की हत्या किए जाने की बात कुबूल की। उसने पुलिस को बताया कि मां उस पर पढ़ने के लिए दबाव बना रही थी। पुलिस ने नाबालिग बेटी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर उसे हिरासत में ले लिया है। बेटी ने भी अपने गुनाह को कबूल कर लिया है।