भारत की वो Top 10 कंपनियां जो अब तक शीर्ष पर है, चलिए जानते हैं कौन है पहले पायदान पर

बरगंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 की विशेष रिपोर्ट के अनुसार, यूनिकॉर्न कंपनियां- Nykaa, Zomato, Paytm और Policybazaar ने 2021 के दौरान अपने मूल्यांकन में भारी गिरावट दर्ज की है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। बरगंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 की विशेष रिपोर्ट के अनुसार, यूनिकॉर्न कंपनियां- Nykaa, Zomato, Paytm और Policybazaar ने 2021 के दौरान अपने मूल्यांकन में भारी गिरावट दर्ज की है। एक्सिस बैंक की बरगंडी प्राइवेट और हुरुन इंडिया ने भारत की 500 सबसे मूल्यवान निजी कंपनियों की सूची का अपडेट लॉन्च किया है। सूची के अनुसार इन चार यूनिकॉर्न के मूल्य में लगभग 1,61,007 करोड़ रुपये की गिरावट आई है।

Read More : आलीशान मकान नकली सामान! नकली वॉलपुट्टी बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड़, ऐसे बनाते हैं ब्रांडेड पुट्टी

सूची के अनुसार, पेटीएम का प्रदर्शन सबसे खराब रहा है। पेटीएम ने 63% (₹63,666 करोड़) खोकर ₹37,724 करोड़ के मूल्य पर आ गया है। गौरतलब है कि ऐतिहासिक आईपीओ के बाद ट्रेडिंग के पहले दिन (18 नवंबर 2021) पेटीएम के शेयर 27% टूट गए हैं। दूसरी ओर यूनिकॉर्न डेल्हीवरी ने इस अवधि के दौरान अच्छा प्रदर्शन किया है और ₹37,095 करोड़ के मूल्य तक पहुँचने के लिए 65% मूल्य (₹14,495 करोड़) प्राप्त किया है।

Read More : SBI Customers की परेशानी बढ़ी, अब आसान नहीं होगा घर बनाना

हुरुन इंडिया के प्रबंध निदेशक और मुख्य शोधकर्ता अनस रहमान जुनैद ने कहा, “मूल्य किसी भी कंपनी के प्रदर्शन को मापने का सबसे अच्छा तरीका है क्योंकि मूल्य न केवल कंपनी के वर्तमान प्रदर्शन बल्कि भविष्य की क्षमता को भी ध्यान में रखता है। ये कंपनियां सबसे बड़े अवसर का प्रतिनिधित्व करती हैं। कर राजस्व, गुणवत्तापूर्ण रोजगार और उद्योग नेतृत्व।”

Read More : Mandi bhav: 16 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में शीर्ष 500 कंपनियों का मूल्य 30 अक्टूबर, 2021 तक 221 लाख करोड़ रुपये से 2% बढ़कर ₹232 लाख करोड़ हो गया। समीक्षा अवधि के दौरान 219 कंपनियों के कुल मूल्य में गिरावट आई। दस कंपनियां सपाट रहीं और 36 सूची से बाहर हो गईं। ₹18.9 लाख करोड़ के मूल्य के साथ, रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत की सबसे मूल्यवान कंपनी है, इसके बाद टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) ₹12.9 लाख करोड़ और HDFC बैंक ₹7.7 लाख करोड़ के साथ है।

Read More : पेंशनर्स के पेंशन-फैमिली पेंशन-अनुकंपा भत्ते पर बड़ी अपडेट, विभाग ने जारी किया आदेश, होगा संशोधन, मिलेगा लाभ

इसके अलावा, सूची के अनुसार, शीर्ष 10 कंपनियों का कुल मूल्य ₹71.8 लाख करोड़ ($940 बिलियन) पर स्थिर रहता है, जो भारत के सकल घरेलू उत्पाद के 37% और बरगंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 के कुल मूल्य के 31% के बराबर है। शीर्ष 10 सबसे मूल्यवान कंपनियों की सूची में, अदानी समूह की कंपनियों ने समीक्षा अवधि के दौरान सबसे अधिक लाभ कमाया और अन्य सभी को भारी अंतर से पीछे छोड़ दिया। केवल छह महीनों में अदानी ग्रीन रैंकिंग में ऊपर चढ़कर 16वें से छठे स्थान पर आ गई है।

Read More : UGC की नई गाइडलाइन, PhD प्रवेश को लेकर बदले नियम, उम्मीदवारों के लिए जानना आवश्यक

हुरुन के अनुसार टॉप 10 कंपनियों की लिस्ट
1. रिलायंस
2. टाटा
3. HDFC
4. हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड
5. इंफोसीस
6. HDB फाइनेंसियल सर्विसेज
7. कोटक महिंद्रा बैंक
8. आईसीआईसीआई बैंक
9. एयरटेल
10. बजाज फाइनेंस