दो कैबिनेट मंत्री ने की इस्तीफा देने की तैयारी! डैमेज कंट्रोल में जुटे CM

भाजपा विधायक

बेंगलुरु, डेस्क रिपोर्ट। BJP में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। दरअसल नई कैबिनेट(New Cabinet) गठन के बाद से ही कैबिनेट के दो मंत्री अपने विभाग (department) को लेकर असंतुष्ट हैं। जिसके बाद दोनों कैबिनेट मंत्री (cabinet minister) अब इस्तीफा देने की तैयारी में हैं। वहीं कैबिनेट मंत्री के इस फैसले के बाद अब सीएम (CM) डैमेज कंट्रोल मोड (Damage control mode) में आ गए हैं।

दरअसल कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Chief Minister Basavaraj Bommai) डैमेज कंट्रोल मोड में हैं क्योंकि  सूत्रों ने बताया कि दो कैबिनेट मंत्री आनंद सिंह और नागराज ने अपने पदों से इस्तीफा देने का फैसला किया है। आनंद सिंह और नागराज को उनकी इच्छा के विरुद्ध पर्यटन और नगर प्रशासन मंत्रालय आवंटित किया गया है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने बताया कि आनंद सिंह मुख्यमंत्री बोम्मई और एम.टी.बी. नागराज ने स्पष्ट कर दिया है कि वह तब तक पद पर नहीं रहेंगे, जब तक उन्हें उनकी पसंद का कैबिनेट पोर्टफोलियो नहीं दिया जाता।

मामले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री बोम्मई ने बुधवार को कहा कि आनंद सिंह तीन दशकों से उनके दोस्त हैं और नागराज के साथ कोई समस्या नहीं है क्योंकि उन्होंने उनसे बात की है। सीएम बोम्मई ने कहा कि मैंने मंगलवार को आनंद सिंह से बात की थी। उन्हें आज (बुधवार) या शुक्रवार को बैठक के लिए बुलाया है। वह अपने खाली समय में आ सकते हैं और मुद्दों पर चर्चा कर सकते हैं। चर्चा के बाद निर्णय लिए जाएंगे और उन्हें सार्वजनिक किया जाएगा।

Read More: MP News: शिवराज सरकार की बड़ी उपलब्धि, इस योजना से अब तक कई बच्चे लाभान्वित

सीएम बोम्मई ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर भाजपा आलाकमान को जानकारी नहीं दी है। हालांकि सूत्रों ने कहा कि आनंद सिंह लोक निर्माण विभाग (PWD) की मांग कर रहे हैं और नागराज आवास मंत्रालय की मांग कर रहे हैं। दूसरी ओर आनंद सिंह ने विजयनगर में अपना कार्यालय खाली कर दिया और कहा कि अगर उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वह अपना इस्तीफा सौंप देंगे और एक विधायक के रूप में बने रहेंगे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि आनंद सिंह ने अपना फोन स्विच ऑफ कर लिया है और बोम्मई के कॉल से बच रहे हैं।

कई कैबिनेट मंत्री कार्यभार संभालने के बाद शीर्ष नेताओं को बधाई देने के बहाने नई दिल्ली यात्राएं कर रहे हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उनके एजेंडे में उन्हें आवंटित cabinet deparment को बरकरार रखने की संभावना है। वहीँ पूर्व मंत्री सी.पी. योगेश्वर पहले से ही दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। उनके साथ पूर्व मंत्री रमेश जारकीहोली भी शामिल होंगे। पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा के सूत्रों ने बताया कि कैबिनेट मंत्री बनने से चूक गईं रेणुकाचार्य भी नई दिल्ली में हैं।