Bengal Politics: मुकुल रॉय की व‍िधायकी पर मंडराया खतरा, हाईकोर्ट जाने की तैयारी में BJP

मुकुल रॉय

कोलकाता, डेस्क रिपोर्ट। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 (west bengal assembly election 2021) के बाद बीजेपी से टीएमसी में शामिल होने वाले मुकुल रॉय (Mukul Roy)की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है।मुकुल रॉय की विधायकी पर खतरे के बादल मंडला रहे है। बीजेपी ने बंगाल विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी (Assembly Speaker Biman Banerjee) मांग की है कि मुकुल रॉय दलविरोध कानून के दायरे में आते हैं और उन्हें अयोग्य ठहराया जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो बीजेपी हाईकोर्ट (Calcutta High Court) का दरवाजा खटखटाएगी।

यह भी पढ़े.. MP Weather: मप्र के 22 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, एक साथ रेड-ऑरेंज अलर्ट जारी

दरअसल, विधानसभा चुनाव में मुकुल रॉय ने बीजेपी (BJP) से विधायक का चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी, लेकिन चुनाव के कुछ दिनों बाद ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) की अध्यक्षता में टीएमसी में घर वापसी कर ली।इसके बाद भाजपा ने पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतने के बाद सत्तारूढ़ तृणमूल में शामिल होने को लेकर उन्हें अयोग्य करार देने की मांग को लेकर  बंगाल विधानसभा के स्पीकर बिमान बनर्जी के समक्ष शिकायत दायर की थी, जिस पर आज सुनवाई हुई और सोमवार को उन्हें विधानसभा अध्यक्ष द्वारा की सुनवाई की कॉपी मिलेगी।

इतना ही नहीं इन सब के बीच ममता (TMC) ने बड़ा दांव खेलते हुए मुकुल रॉय को लोक लेखा समिति (PSC) का नया अध्यक्ष बना दिया, जिससे भाजपा और भड़क गई और इसी के विरोध में 8 बीजेपी विधायकों ने पश्चिम बंगाल विधानसभा (West Bengal Assembly) की स्ठाई समितियों से इस्तीफा दे दिया था।वही  नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात कर नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए हस्तक्षेप का अनुरोध किया था। शुक्रवार को जब पीएसी अध्यक्ष के रुप में मुकुल बैठक में पहुंचे तो बीजेपी ने बहिष्कार किया।

यह भी पढ़े.. किसान सम्मान निधि: इस दिन आएगी 9वीं किश्त, इन किसानों को नहीं मिलेगा लाभ

सूत्रों का कहना है कि अगली सुनवाई में शुभेंदु अधिकारी की शिकायत के आधार पर विधानसभा अध्यक्ष विमान  रॉय से पूछताछ की जाएगी और उनका पक्ष जाना जाएगा। 17 अगस्त को मुकुल रॉय को अपना पक्ष विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष रखना होगा, इसके बाद बीजेपी को न्याय मिलता है तो सही वरना वह इस मामले में अदालत का रुख करेगी।ऐसे में  रॉय की मुश्किलें बढ़ गई है। अब देखना दिलचस्प होगी कि मुकुल रॉय अपनी विधायक और अध्यक्ष पद बचाने में कामयाब होते है या नहीं।