साल में सिर्फ एक बार खुलता है 326 साल पुराना है भगवान धन्वंतरि का ये चमत्कारी मंदिर, जानें इतिहास

Dhanteras 2023

Dhanteras 2023 : देशभर में कई सारे चमत्कारी और प्रसिद्ध मंदिर मौजूद है, जहां की मान्यता भी काफी ज्यादा है। दूर-दूर से भक्त उन मंदिरों में दर्शन करने के लिए आते हैं और यहां का इतिहास जानते हैं। इन्हीं में से आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जो भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। यह मंदिर 326 साल पुराना है यानी इस मंदिर में 326 साल पुरानी प्रतिमा भगवान की विराजमान है।

जैसा की आप सभी जानते हैं धनतेरस का दिन भगवान धन्वंतरि को समर्पित है। आज देशभर में धनतेरस का त्यौहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। इतना ही नहीं आज देशभर में भगवान धन्वंतरि की जयंती भी मनाई जा रही है। ये जयंती वाराणसी के धन्वंतरि मंदिर में धूमधाम से मनाई जाती है। मोक्ष नगरी की मान्यता वाले शहर बनारस में धनत्रयोदशी की रात अमृत कलश छलकेगा।

चमत्कारी है वाराणसी में स्थित धन्वंतरि मंदिर

Dhanteras 2023

दरअसल, वाराणसी में भगवान धन्वंतरि का चमत्कारी और रहस्यों से भरा मंदिर मौजूद है जो साल में सिर्फ एक बार धनतेरस के दिन खुलता है। धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग वाराणसी आते हैं। कहा जाता है कि इस मंदिर के चमत्कार इतने शक्तिशाली है कि कोई भी व्यक्ति यहां दर्शन करने आता है तो उसी सभी समस्या और रोग दूर हो जाते हैं।

जानें इतिहास

dhanteras

वाराणसी में भगवान धन्वंतरि का चमत्कारी मंदिर 326 साल पुराना है। इस मंदिर में करीब 50 किलो की मूर्ति विराजमान है। जो करीब ढाई फुट ऊंची हैं। यहां मौजूद मूर्ति के हाथ में अमृत कलश, दूसरे में शंख, तीसरे में चक्र और चौथे हाथ में जोंक हैं। श्रीमद्भागवत में भी उल्लेख किया गया है कि कहा गया है कि विष्णु के 24 अवतारों में धन्‍वंतरि भी एक थे। वह समुद्र से हाथ में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। इतना ही नहीं काशी में ही आयुर्वेद की उत्पत्ति पहली बार हुई थी। इस वजह से यहां मौजूद भगवान धन्वंतरि का मंदिर भी काफी ज्यादा प्रसिद्ध है।

डिस्क्लेमर – इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। एमपी ब्रेकिंग इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह लें।

 


About Author
Avatar

Ayushi Jain

मुझे यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि अपने आसपास की चीज़ों, घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी रखना मनुष्य का सहज स्वभाव है। उसमें जिज्ञासा का भाव बहुत प्रबल होता है। यही जिज्ञासा समाचार और व्यापक अर्थ में पत्रकारिता का मूल तत्त्व है। मुझे गर्व है मैं एक पत्रकार हूं। मैं पत्रकारिता में 4 वर्षों से सक्रिय हूं। मुझे डिजिटल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कंटेंट राइटिंग, कंटेंट क्यूरेशन, और कॉपी टाइपिंग में कुशल हूं। मैं वास्तविक समय की खबरों को कवर करने और उन्हें प्रस्तुत करने में उत्कृष्ट। मैं दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली से संबंधित विभिन्न विषयों पर लिखना जानती हूं। मैने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ग्रेजुएशन किया है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन एमए विज्ञापन और जनसंपर्क में किया है।

Other Latest News