इन मंदिरों में भूलकर भी ना फोड़े नारियल, जानें इससे जुड़े नियम और महत्व

Coconut Ritual: हिंदू धर्म में पूजा-पाठ और इससे जुड़े कई नियम होते हैं। पूजा-पाठ के दौरान हम भगवान को फूल चढ़ाते हैं, भोग लगाते हैं और नारियल फोड़ते हैं। सनातन धर्म में हर पूजा-पाठ, मांगलिक-कार्य या किसी भी प्रकार के शुभ कार्य में नारियल का इस्तेमाल जरूर किया जाता है। यहां तक की शुभ कार्य की शुरुआत ही नारियल फोड़कर की जाती है। पूजा-पाठ में भोग लगाने का भी विशेष महत्व होता है। बिना भोग के पूजा-पाठ अधूरी मानी जाती है। कई बार लोगों के मन में नारियल को लेकर यह सवाल उठता है कि भगवान के सामने नारियल फोड़कर चढ़ाना चाहिए या साबुत नारियल चढ़ाना चाहिए। इसी कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए आज हम आपको इस लेख के द्वारा बताएंगे की किस मंदिर में नारियल फोड़कर चढ़ाना चाहिए और किस में साबुत चढ़ाना चाहिए, तो चलिए जानते हैं।

श्रीफल/ नारियल का महत्व

नारियल से जुड़े नियमों के बारे में जानने से पहले हम नारियल के महत्व को जानेंगे। नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जब भगवान विष्णु पृथ्वी पर प्रकट हुए थे। तब वे अपने साथ मां लक्ष्मी, नारियल वृक्ष और कामधेनु गाय को लेकर आए थे। श्रीफल में त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास होता है। इसलिए हर प्रकार के शुभ कार्य में नारियल का इस्तेमाल जरूर किया जाता है।

जानें, नारियल से जुड़े नियम

  • हिंदू शास्त्र में ऐसा कहा गया है कि भगवान शंकर और श्री कृष्ण के मंदिर में नारियल को नहीं फोड़ना चाहिए। यहां नारियल को प्रसाद के रूप में चढ़ाना चाहिए।
  • भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी के सामने या इन देवी देवताओं के मंदिर में नारियल कभी भी फोड़कर नहीं चढ़ाना चाहिए। नारियल को घर से फोड़कर ले जाकर मंदिर में प्रसाद के रूप में चढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा साबुत नारियल भी चढ़ाया जा सकता है।
  • वहीं, बाबा काल भैरव, हनुमान जी और माता रानी के मंदिर में नारियल को फोड़कर चढ़ाया जाता है। इन देवी देवताओं के मंदिरों में नारियल को बलि के तौर पर चढ़ाया जाता है।

    (Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News