आजमाएं नाखून के ये 3 टोटके, चमक उठेगा भाग्य, दूर होंगे जीवन के कष्ट, भरेगा रहेगा अन्न-धन का भंडार

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Nails Astro Tips

Nails Astro Tips: नाखून मानव शरीर का अहम हिस्सा होता है, जो पैर-हाथों के सुंदरता को बढ़ाते हैं। इससे जुड़ी कई धार्मिक मान्यताएं भी हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नाखून का संबंध शनि देव और माँ लक्ष्मी से होता है। इससे जुड़े कुछ उपाय आपके जीवन में सुख-समृद्धि बढ़ा सकते हैं। इन टोटकों (Nakhun Ke Totke) से वैवाहिक जीवन और करियर में आ रही बाधाओं से छुटकारा पाया जा सकते हैं। आए एक नजर इन उपायों पर डालें-

इस दिन काटें नाखून, होगा लाभ

नाखून काटने के लिए बुधवार और शुक्रवार का दिन शुभ माना गया है। बुधवार को नाखून काटने से आकस्मिक धन लाभ होता है। करियर और कारोबार में लाभ होता है। वहीं शुक्रवार के दिन नाखून काटने से वैवाहिक जीवन सुखमय होता है। भूलकर भी गुरुवार और शनिवार को नाखून न काटें।

कटे हुए नाखून को इस पेड़ के नीचे गड़ाएं

नाखून काटकर कूड़ेदान में फेकना शुभ नहीं माना जाता। ऐसा करने से जीवन में समस्याएं बढ़ती हैं। कटे हुए नाखून को बरगद पेड़ और अशोक पेड़ के जड़ों में गड़ाना शुभ माना जाता है। यह उपाय शुक्रवार के दिन करना और भी लाभकारी माना जाता है। ऐसा करने से सुख-सौभाग्य में वृद्धि होती है।

स्नान से पहले काटे नाखून

नौकरी और कारोबार में तरक्की के लिए नहाने से पहले नाखून काटें। स्नान करने के बाद नाखून को काटना शुभ नहीं माना जाता। ऐसा करने से देवी लक्ष्मी रुष्ठ होती हैं।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी साझा करना है, जो मान्यताओं पर आधारित है। MP Breaking News इन बातों के सत्यता और सटीकता की पुष्टि नहीं करता।)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News