टेस्ट मैच में भारतीय महिला टीम का दबदबा, ऑस्ट्रेलिया को मात देकर दर्ज की ऐतिहासिक जीत

Shashank Baranwal
Published on -
IND W vs AUS W

IND W vs AUS W: भारतीय महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया की टीम को टेस्ट मैच हराकर इतिहास रच दिया है। जहां भारतीय टीम ने शानदार खेलते हुए 8 विकेट से जीत दर्ज की है। बता दें भारत की यह जीत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली टेस्ट जीत है। वहीं इससे पहले इंग्लैंड को भी हराकर महिला टीम ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी। इस जीत के साथ भारतीय महिला टीम ने लगातार दूसरी जीत दर्ज की है।

पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया को 219 रनों पर रोका

बता दें मुंबई में खेले जा रहे भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की टीम को पहली पारी में भारत ने महज 219 रनों पर ही रोक दिया था। इस दौरान सबसे ज्यादा रन ताहिल मैक्ग्राथ ने 56 गेंदों में 50 रनों की अर्द्धशतकीय पारी खेली। साथ ही मूनी ने 40 रनों की पारी खेली। वहीं भारतीय टीम की तरफ से पहली पारी में पूजा वस्त्राकर ने सबसे ज्यादा 4 विकेट झटके। जबकि स्नेह राणा को 3 विकेट और दीप्ति शर्मा को 2 विकेट मिला।

भारतीय टीम ने 187 रनों की लीड की हासिल

वहीं भारतीय टीम ने पहली पारी में 419 रनों का विशाल स्कोर बनाया। जिसमें ऑस्ट्रेलिया की टीम के सामने 187 रनों की लीड हासिल की। इस दौरान सबसे ज्यादा रन दीप्ती शर्मा ने 78 रनों की शानदार अर्द्धशतकीय पारी खेली। वहीं दूसरे नंबर पर स्मृति मंधाना ने 75 रन, जेमिमा रोड्रिग्स 73 रन और रिचा घोष ने 52 रनों की अर्द्धशतकीय पारी खेली।

दूसरी पारी मे ऑस्ट्रेलिया को 261 रनों पर किया ऑलआउट

दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया की टीम 261 रनों पर ऑलआउट हो गई। जहां भारत को सिर्फ 75 रनों की दरकार थी। जिसे आसानी से पूरा करते हुए 8 विकेट से मैच जीतकर इतिहास रच दिया। इस दौरान स्नेह राणा ने 4 विकेट झटके। जबकि हरमनप्रीत कौर और राजेश्वरी गायकवाड़ को 2-2 विकेट मिले। वहीं पूजा वस्त्राकर को 1 विकेट मिला।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News