इलेक्ट्रिक गाड़ी करंट मारेगी ! वो कुछ अजीबोगरीब बातें जो EV के बारे में बिलकुल झूठ हैं

सच्चाई ये है कि हर तरह के मौसम और भुगोल के अनुसार तैयार की गई हैं ये गाड़ियां. इन्हें एक्सट्रीम वेदर कंडिशन्स में काम करने के लिए डिजाइऩ किया गया है

टेक्नोलॉजी, डेस्क रिपोर्ट। भारत (India) समेत पूरी दुनिया में इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) के बाजार में तेजी से उछाल आ रहा है। ये माना भी जा रहा है कि ये उछाल बढ़ना ही है। जिसे देखते हुए कई नामीगिरामी कंपनियां इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (Electric Vehicles) लॉन्च कर रही हैं। टू व्हीलर (Two-wheeler) से लेकर फोर व्हीलर तक के सेगमेंट (Segment) में बिजली से चलने वाली गाड़ियां आसानी से उपलब्ध हो रही हैं। हालांकि अब भी कुछ लोग इलेक्ट्रिक व्हीकल की सवारी करने से डरते हैं उसकी वजह ये सिर्फ ये नहीं कि वो कितनी दूर तक चल सकेगी। बल्कि कुछ ऐसी गलत बातें लोगों के बीच प्रचलित हैं जिसकी वजह से लोग इन्हें खरीदने से कतराते हैं।

बारिश में करंट मारेगी

इलेक्ट्रिक गाड़ी (EV) में जैसे ही पानी लगेगा ये करंट मारेगी। बिजली से चलने वाली गाड़ियों से जुड़ा ये सबसे बड़ा मिथ है। ऑटोमोबाइल्स के जानकारों से लोग अक्सर इस तरह के सवाल पूछते हैं। उन्हें डर रहता है कि पानी के टच में आने से, खासतौर से बारिश के सीजन में ये गाड़ियां करंट मारेंगी। जबकि सच्चाई ये है कि हर तरह के मौसम और भुगोल के अनुसार तैयार की गई हैं ये गाड़ियां। इन्हें एक्सट्रीम वेदर कंडिशन्स में काम करने के लिए डिजाइऩ किया गया है। बैटरी को भी वॉटरप्रूफ बनाए रखने के पूरे इंतजाम रहते हैं।

इलेक्ट्रिक गाड़ी करंट मारेगी ! वो कुछ अजीबोगरीब बातें जो EV के बारे में बिलकुल झूठ हैं

Read More  : नए वेरिएंट ओमाइक्रोन के बढ़ते केस ने बढ़ाई चिंता, लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध, PM Modi आज लेंगे बड़ी बैठक

दूर तक न जाएं

इन गाड़ियों से जुड़ा दूसरा झूठ ये है कि इन्हें लेकर दूर नहीं जाना चाहिए। कई लोगों में तो ये डर इस कदर है कि वो मानते हैं कि इलेक्ट्रिक व्हीकल से कहीं दूर निकले तो लौटने के लिए या तो लिफ्ट लेनी पड़ेगी या फिर कैब करनी होगी।जबकि हर इलेक्ट्रिक व्हीकल के साथ ये जानकारी दी जाती है कि फुल चार्ज होने पर वो कितनी दूरी तय कर सकती है।कंपनियों का दावा ये भी है कि सिग्नल या ट्रैफिक में फंसने पर ये गाड़ियां खुद ब खुद बैटरी चार्ज भी करती हैं।

रेंज पर शक

तीसरी फिक्र इस बात की होती है कि कंपनियां जितना दावा करती हैं ये व्हीकल सिंगल चार्ज में उतनी दूरी तय कर सकेंगे या नहीं। कई लोगों को ये डाउट रहता है कि सिंगल चार्ज में ढाई सौ से तीन सौ किमी तय करने वाली इलेक्ट्रिक व्हीकल बीच रास्ते में ही धोखा दे जाएगी। जबकि कंपनियां इस फीचर पर पूरा ध्यान दे रही हैं। साथ ही ये भी सुनिश्चित कर रही हैं कि रास्ते में कहीं रूककर गाड़ी चार्ज की जाए तो वो एक घंटे में अस्सी फीसदी से ज्यादा चार्ज हो।

इलेक्ट्रिक गाड़ी करंट मारेगी ! वो कुछ अजीबोगरीब बातें जो EV के बारे में बिलकुल झूठ हैं

रफ्तार पर संदेह

कई लोगों को ये डाउट भी रहता है कि इलेक्ट्रिक व्हीकल शायद तेज रफ्तार में न चल सके। जबकि विदेशी गाड़ियों की बात करें तो इलेक्ट्रिक कार टेसला सिर्फ तीन सेकंड में सौ की स्पीड से हवा से बाते करती हैं और घरेलू बाजार की बात करें तो यहां उपलब्ध टाटा नेक्सन ईवी दस सेकंड में इस गति से भागने लगती है।