WhatsApp पर आ रहा है नया फीचर, ऐप पर यूजर्स को मिलेगी न्यूज, ये खास टूल जीतेगा दिल

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Technology News: समय-समय पर WhatsApp पर बदलाव होते रहते हैं। नए अपडेट्स के साथ नए फीचर्स की सौगात भी यूजर्स को मिलती है। अब तक कई फीचर्स व्हाट्सऐप पर आ चुके हैं, जिसने यूजर्स के अनुभव को और भी आसान और रोचक बना दिया है। सुरक्षा और प्राइवसी का ख्याल रखने के लिए भी कई नए फीचर्स शुरू किये गए हैं। वहीं कुछ की टेस्टिंग अभी भी जारी है। इस चैटिंग प्लेटफ़ॉर्म पर ऑनलाइन पेमेंट से लेकर कई अन्य सुविधाएं मिलती है। अब नई सुविधा प्लेटफॉर्म पर जुडने वाली है। जिसके तहत यूजर्स को न्यूज के लिए अलग-अलग ऐप्स भी डाउनलोड नहीं करने पड़ेंगे।

मिलेगा न्यूजलेटर टूल

कंपनी बहुत जल्द “Newsletter Tool” की सुविधा शुरू करने वाली है। जिसकी टेस्टिंग अभी चल रही है। इस टूल के माध्यम से आपको खबरों के लिए अलग-अलग वेबसाईट पर विज़िट करने और विभिन्न प्रकार के ऐप्स को डाउनलोड करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। व्हाट्सऐप पर प्राइवेट न्यूजलेटर टूल की सुविधा मिलने वाली है। जो इनफॉर्मेशन ब्रॉडकास्ट करने के लिए वन-टू-मैनी टूल के रूप में काम करेगा। इसके जरिए ग्रुप्स में ही काम के अपडेट्स पाने का नया तरीका होगा।

चैटिंग में नहीं होगी कोई समस्या

यह टूल स्टेटस पेज पर एक ऑप्शनल सेक्शन के साथ उपलब्ध हो सकता है। जो प्राइवेट चैट से अलग होगा। इस नए टूल से End-to-End Encryption में कोई भी समस्या नहीं होगी। इसके अलावा अन्य कई फीचर्स भी कंपनी काम कर रही है। रिपोर्ट की माने तो न्यूजलेटर की सुविधा एंड्रॉयड और आईफोन दोनों ही यूजर्स के लिए उपलब्ध होगी।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News