Breaking News
इग्लैंड में अपना जलवा दिखाने पहुंचे 4 भारतीय दिव्यांग तैराक, इंग्लिश चैनल को करेंगें पार | VIDEO : केरवा कोठी पर भाजपा महिला मोर्चा का प्रदर्शन | सरकार की वादाखिलाफी से नाराज अध्यापकों ने फिर खोला मोर्चा, भोपाल में जंगी प्रदर्शन | NGT की सख्ती के बावजूद CM के गृह जिले में धड़ल्ले से हो रहा अवैध उत्खनन, 11 डंपर जब्त | भाजपा-कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, मानसून सत्र को लेकर होगी चर्चा | जब डॉक्टर के साथ मंत्री जी ने भी उठाया 70 लाख की कार से कचरा, देखें वीडियो | जानिये, जनसंपर्क ने कैसे कराई मोदी की एक साथ सोलह शहरों से बात | शिवराज सरकार ने उड़ाया PM के लाईव कार्यक्रम का मजाक, नपा कर्मचारी को हितग्राही बनाकर करवाई बात | प्रधानमंत्री का लाइव कार्यक्रम बना तमाशा | भाजपा सांसद ने कांग्रेस पार्षद को दी देख लेने की धमकी, देखे वीडियो |

प्रदर्शन कर रहे किसानों से भरवाए गए बॉन्ड, चेतावनी के बाद छोड़ा, ग्रामीणों में आक्रोश

बैतूल।। हेमंत पवार ।।

मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के पहले बॉन्ड भरवाने को लेकर जमकर हंगामा हुआ, इसके बाद सरकार ने साफ़ कहा है कि किसी भी प्रकार के बॉन्ड भरने की इजाजत नहीं दी गई है| लेकिन किसान आंदोलन के दूसरे दिन मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में तीन किसानों को थाने लाकर बॉन्ड भरवाने का मामला सामने आया है| 

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को ग्राम कोदारोटी में दुग्ध समिति में प्रदर्शन करने के साथ ही मंदिर में शिवजी का अभिषेक करने के मामले में कोतवाली पुलिस द्वारा 3 किसानों को पकड़कर कोतवाली थाने लाया गया। कोतवाली टीआई राजेश साहू ने बताया कि गांव में किसान आंदोलन से संबंधित क्या गतिविधि चल रही है इसके सम्बन्ध में बयान लिए गए हैं। ग्राम के रामकरन यादव, फूलचन्द यादव और दिनेश यादव को तहसीलदार न्यायालय में पेश किया गया जहां उनसे 35-35 हजार के बांड भरवाए जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे ऐसी कोई गतिविधि न करें।

बॉन्ड भरवाने को लेकर एक बार फिर राजनीति गरमा गई है, वहीं एक तरफ जब सरकार बॉन्ड भरवाने जैसे किसी आदेश से पल्ला झाड़ रही है तो आखिर पुलिस प्रशासन इस तरह की कार्रवाई क्यों कर रहा है|  पुलिस और प्रशासन की इस कार्रवाई को लेकर ग्रामीणों में नाराजगी है | कार्रवाई के विरोध में तहसील कार्यालय में दर्जनों ग्रामीण जमा हो गए । सरपंच यतीन्द्र सोनी ने कहा कि गरीब किसानों को बांड ओवर करने की बजाय समझाइश देकर छोड़ा जा सकता था। आंदोलन तो सरकारी कर्मचारी भी करते हैं पर किसानों से ही बांड क्यों भरवाए जा रहे।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...