MP: देश की सबसे हाई प्रोफाइल सीट पर बीजेपी ने किया जीत का दावा

भोपाल। लोकसभा चुनाव के खत्म होने के बाद अब सियासी दल अपनी अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। एग्जिय पोल आने के बाद से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की करारी हार का अनुमान लगाया जा रहा है। राजधानी भोपाल चुनाव से पहले देश भर में सबसे लोकप्रिय बनी रही है। इस सीट पर नतीजे का इंतजार सभी को है। वहीं, बीजेपी ने दावा किया है कि वह भोपाल सीट भी जीत रही है। एग्जिट पोल के अलावा कई मीडिया रिपोर्ट में भी दावा किया गया है भोपाल में बीजेपी का पलड़ा भारी है। 

दरअसल, भोपाल सीट संघ का गढ़ रही है। यहां से बीजेपी लंबे समय से जीत दर्ज करती रही है। कांग्रेस ने इस सीट पर कई कद्दावर नेताओं को उतारा लेकिन किसी के हाथ जीत नहीं लगी। मुस्लिम प्रत्याशी से लेकर सभी तरह के दांव कांग्रेस ने खेले लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी के जीत का रथ रोकने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विय सिंह को यहां से उम्मीदवार घोषित किया। उनके सामने बीजेपी ने काफी समय लेने के बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मैदान में उातार। साध्वी के बयानों ने देश में बीजेपी की जमकर किरकिरी कराई। वहीं, वह मालेगांव ब्लास्ट में भी आतंक के आरोपों से घिरी हैं। उनका यह मुद्दा भी कांग्रेस ने जमकर भुनाने का काम किया है। लेकिन उसके सामने करीब तीन लाख वोटों को पाटने की बड़ी चुनौती भी थी। 

दिग्विजय सिंह की छवि जनता के बीच काफी अच्छी नहीं रही है। उन्हें बिजली और खराब सकड़ के लिए याद किया जाता है। आज भी लोग उनके कार्यकाल में बिजली की बात को सुन घबरा जाते हैं। लेकिन इस बार दिग्गी ने अपनी पूरी तैयारी की। उन्होंने भोपाल की गलियां नापी साथ ही घर घर जाकर वोट की अपील की। वहीं, साध्वी ने इस चुनाव को धर्म बनाम अधर्म और राष्ट्रवाद को लेकर लड़ा। लेकिन वोटिंग नजदीक आते आते दोनों प्रत्याशी धर्म के नाम पर अड़े रहे। जहां साध्वी ने भी पूजा पाठ की वहीं दिग्गी के समर्थन में कंप्यूटर बाबा ने हठयोग से लेकर विशेष पूजन तक किए। यही नहीं कंप्यूटर बाबा के साधु संतों ने राजधानी की सड़कों पर दिग्गी के लिए रोज शओ भी किया। अब देखना होगा 23 मई को ईवीएम में किसकी किस्मत चमकती है।

"To get the latest news update download the app"