आंबेडकर मेमोरियल सोसायटी के अध्यक्ष ने लगाई फांसी, जेब से मिला सुसाइड नोट

इंदौर। 

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की जन्म स्थली महू के रखरखाव के लिए बनी मेमोरियल सोसायटी के अध्यक्ष भंते संघशील ने बुधवार देर रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उनका वास्तविक नाम अरविंद वासनिक बताया जा रहा है। भंते संघशील ने फांसी इंदौर के वंदना नगर स्थित अपने निवास पर लगाईं। उनके शव के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है। सुसाइड नोट में वृद्धावस्था एवं बीमारी के साथ सोसायटी में चल रही खींचतान को भंते संघशील ने आत्महत्या की वजह बताया है। 

आपको बता दें कि भंते संघशील के खिलाफ अनियमितता की जांच चल रही थी। भंते संघशील पर सोसायटी में धांधली करने का आरोप था जिस वजह से वे डिप्रेशन में चल रहे थे। भन्ते संघशील ने बीते  मई माह में अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया था लेकिन स्मारक की बैठक में उन्हें फिर से अध्यक्ष बना दिया गया। मेमोरियल के संस्थापक भन्ते धर्मशील के निधन के बाद से ही 2007 भंते अध्यक्ष पद पर काबिज थे। 

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार संघशील ने इंदौर के वंदना नगर स्थित अपने निवास पर घर में पंखे से लटककर फांसी लगाईं। भंते के परिजनों का मानना है कि वे अपने कमरे में बैठकर देर रात कुछ कर रहे थे इसी दौरान उन्होंने फांसी लगा ली। उन्हें अस्पताल भी ले जाया गया लेकिन जब तक उनकी मौत हो गई। जानकारी लगते ही पुलिस ने जांच करना शुरू कर दिया और जांच के दौरान पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार भंते के करीबी एवं साथियों का कहना है कि कुछ लोग उनके खिलाफ अफवाह व भ्रामक खबरें फैलाकर अध्यक्ष पद से हटाना चाहते थे, साथ ही भंते को अध्यक्ष पद छोड़ने के लिए धमकियां मिल रहीं थी। पुलिस इस पुरे मामले की जांच कर रही है।

"To get the latest news update download the app"