प्रत्याशियों की फजीहत, कांग्रेस ने चुनाव सामग्री भेजी न आर्थिक मदद

भोपाल। प्रदेश में 15 साल से जमी भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का दावा करने वाली कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों को अभी तक न तो आर्थिक मदद पहुंचाई है और न ही चुनाव सामग्री भेजी है। प्रदेश कांग्रेस की ओर से प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार सामग्री के नाम पर अभी तक सिर्फ एक पैन-ड्राइव और दो किताबे भिजवाई हैं। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का चुनाव प्रबंधन भाजपा की अपेक्षा बेहद कमजोर है। कई जिलों में पार्टी के पास नेताओं की सभा कराने के लिए जिम्मेदार पदाधिकारी भी नहीं है।

पिछले विधानसभा चुनावों तक कांग्रेस की ओर से सभी प्रत्याशियों को प्रचार सामग्री के अलावा चुनाव खर्च के लिए फंड जारी किया जाता था। पीसीसी के अनुसार पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी ने हर प्रत्याशी को 18 लाख रुपए दिए थे। लेकिन इस बार चुनाव में कोई आर्थिक मदद नहीं की है। जबकि चुनाव में सिर्फ 12 दिन का समय शेष है। कांग्रेस हाईकमान ने छह महीने पहले अरुण यादव को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से हटाकर उद्योगपति कमलनाथ को पीसीसी की कमान सौंपी थी, इसके पीछे पार्टी की मंशा यह रही होगी कि कमलनाथ को कमान मिलने के बाद प्रदेश में कांग्रेस को आर्थिक सहयोग मिलेगा। चुनाव में अभी तक ऐसा नहीं दिख रहा है कि कांग्रेस आर्थिक रूप से मजबूत हुई है। अभी भी कांग्रेस आर्थिक संकट से गुजर रही है।  


प्रत्याशियों को छपवानी होगी सामग्री

प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से प्रत्याशियों को पैन ड्राइव भेजी है। जिसमें बैनर, पोस्टर, पेंपलेट के डिजाइन हैं। प्रत्याशी अपनी सुविधानुसार छपवा सकते हैं। जबकि पिछले चुनावों तक अखिल भारतीय कांगे्रस कमेटी की ओर से प्रचार सामग्री भेजी जाती थी, जिसे ट्रकों में भरकर प्रदेश के जिलों में प्रत्याशियों के पास पहुंचाया जाता था। प्रत्याशियों को जो दो किताबें पहुंचाई हैं, उनमें से एक किताब में सत्तारूढ़ दल की सरकार के कारनामे हैं। जिन्हें चुनाव में उठाना है। जबकि दूसरी किताब में कांंग्रेस का वचन पत्र सहित कांग्रेस सरकार के समय में बनाई गर्इं योजनाएं हैं।

"To get the latest news update download tha app"