Breaking News
फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' | कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन: 11 कन्याओं ने उतारी राहुल की आरती, 21 पंडितों ने किया मंत्रोचार |

चैत्र नवरात्रि रविवार से शुरू, यह हैं कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और विधि

धर्म: वसंत नवरात्रि का शुभारंभ 18 मार्च से हो रहा है। नवरात्रि हिन्दुओं का प्रसिद्ध त्योहार है जिसे व्यापक स्तर पर मनाया जाता है । हम आपको बता दें कि नवरात्रि साल में दो बार आती है इसके अलावा गुप्त नवरात्रि पर भी लोग मां दुर्गा की पूजा अर्चना करते हैं। चैत्र नवरात्र से नववर्ष के पंचांग की गणना शुरू होती है। नवरात्रि के नौ दिन मां के अलग-अलग स्वरुप की पूजा की जाती है।  हम आपको बता दे कि साल में दो बार नवरात्रि का आयोजन होता है, जिन्हे ग्रीष्म नवरात्रि और शारदीय नवरात्रि कहते हैं। हिंदू नव वर्ष की शुरूआत में आने वाले नवरात्रि को चैत्र नवरात्रि कहा जाता है। नौ दिनों के इस उत्सव को चैत्र माह के शुक्ल पक्ष में मनाया जाता है। इस में शक्ति रूपा माता के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना होती है।


 इस बार 8 दिनों की होगी नवरात्रि

इस बार नवरात्रि 8 दिनों के होंगे सप्तमी और अष्टमी  एक साथ होंगी। नवरात्रि के नौ दिनों में दुर्गा शप्तसती का पाठ करना बहुत उत्तम रहता है। ऐसे कहा जाता है कि अगर साफ-सफाई से सही शब्दों की उच्चारण किया जाए तो देवी मां का आशीर्वाद मिलता है। चैत्र नवरात्रि इस बार ये 18 मार्च से शुरू हो रही हैं और ये 25 मार्च तक चलेंगी। 25 मार्च को अष्टमी और नवमी तिथि एक ही दिन हो रही है। दरअसल प्रतिपदा तिथि 17 मार्च को शाम से लग ही है इसलिए 18 मार्च से ही नवरात्रि के कलश स्थापना होगी। इस बार यानि चैत्र नवरात्रि 2018 को घट स्थापना का शुभ मुहूर्त 18 मार्च सुबह 6 बजकर 31 मिनट से लेकर 7 बजकर 46 मिनट तक है।


कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

जिन घरों में नवरात्रि पर कलश-स्थापना (घटस्थापना) होती है उनके लिए शुभ मुहूर्त 18 मार्च को प्रात: 07 बजकर 35 मिनट से लेकर 3 बजकर 35 मिनट तक रहेगा। इस दौरान घटस्थापना करना सबसे अच्छा होगा। वसंत नवरात्रि में कई शुभ संयोग बन रहे हैं। नवरात्रि के दिन से हिन्दू नव वर्ष प्रारम्भ होता है। इस दिन रविवार है साथ ही सर्वार्थसिद्ध योग भी बन रहा है। इस दिन जो वार होता उसी का स्वामी वर्ष का राजा होता है, अत: इस वर्ष राजा सूर्य है।


- नवरात्रि दिन 1 प्रतिपदा, कलश स्थापना: 18 मार्च 2018 (रविवार) : मां शैलपुत्री पूजा।

- नवरात्रि दिन 2, द्वितीया : 19 मार्च 2018 (सोमवार) : मां ब्रह्मचारिणी पूजा।

- नवरात्रि दिन 3, तृतीया : 20 मार्च 2018 (मंगलवार) : मां चन्द्रघंटा पूजा।

- नवरात्रि दिन 4, चतुर्थी : 21 मार्च, 2018 (बुधवार) : मां कूष्मांडा पूजा।

- नवरात्रि दिन 5, पंचमी : 22 मार्च 2018 (गुरुवार) : मां स्कंदमाता पूजा।

- नवरात्रि दिन 6, षष्ठी : 23 मार्च 2018 (शुक्रवार) : मां कात्यायनी पूजा।

- नवरात्रि दिन 7, सप्तमी : 24 मार्च 2018 (शनिवार) : मां कालरात्रि पूजा।

- नवरात्रि दिन 8, अष्टमी / नवमी : 25 मार्च 2018 (रविवार) : मां महागौरी, मां सिद्धिदात्री

- नवरात्रि दिन 9, दशमी, नवरात्रि पारणा, 26 मार्च 2018 (सोमवार)

(जिनके यहां अष्टमी का हवन होता वो 24 मार्च को करें। जिनके यहां नवमी का हवन होता है वो 25 मार्च को करें)

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...