कांग्रेस नेता का बयान, सिंधिया को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी

1808

भोपाल। भोपाल कांग्रेस के जिला कार्यकारी अध्यक्ष कृष्णा घाटगे ने सोशल मीडिया पर सिंधिया के पक्ष में बयान दिया है। उनका कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस तरह नजरअंदाज करना कांग्रेस को अब भारी पड़ सकता है। घाटगे सिंधिया समर्थक माने जाते हैं और सिंधिया के भोपाल प्रवास के समय उनके कार्यक्रमों की कमान उन्हीं के हाथ में रहती है।

कृष्णा ने लिखा है कि 2018 के चुनाव के बाद से ही कार्यकर्ताओं में आशा की किरण जागी थी कि अब मुख्यमंत्री न सही परंतु अध्यक्ष के रुप में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को हम मध्य प्रदेश की सक्रिय राजनीति में देख पाएंगे। लेकिन लगातार हो रहे नजरअंदाजी से अब कार्यकर्ताओं का भी मनोबल टूटता जा रहा है। हम राहुल जी से पूछना चाहते हैं कि क्या कांग्रेस को मात्र 5 वर्षों के लिए ही मध्यप्रदेश में जीवित रखना हैं या एक लंबे समय के लिए कांग्रेस की सरकार की आवश्यकता है। बार-बार कई नेताओं की टिप्पणियों से जनता और कार्यकर्ताओं में गलत मैसेज जा रहा है। ज्योतिरादित्य जी आज से सड़क पर नहीं है। वह पिछले 18 वर्षों से सक्रिय राजनीति में चाहे धूप हो या छांव, दिन हो या रात ,सदा जनता के लिए सड़क पर लड़ते आए हैं और आज भी उन्होंने जो बयान दिया है वह बिल्कुल सही है कि जो हमारा मेनिफेस्टो है वह हमारे लिये ग्रन्थ की तरह है और उसके लिए सड़कों पर लड़ेंगे। हमारे जैसे हजारों लाखों कार्यकर्ता भी उनके साथ हैं और हम आलाकमान को आगाह करना चाहते हैं कि यदि अब ज्योतिरादित्य सिंधिया जी को कमान नहीं दी गई तो निश्चित रूप से कांग्रेस को नुकसान होगा। सिंधिया के पक्ष में दिया गया कृष्णा का यह बयान एक बार फिर मध्य प्रदेश की कांग्रेस में चल रही अंदरूनी कलह को उजागर कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here