BJP ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को दी बड़ी जिम्मेदारी, राजनीति में उलटफेर की संभावना

चर्चा थी कि सिंधिया को केंद्र में मंत्री बनाया जा सकता है लेकिन उन्हें राज्यसभा सांसद पद बीजेपी की तरफ से दिया गया। वहीं सिंधिया को लेकर लगातार कांग्रेस हमलावर रही है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) की राजनीति में अहम भूमिका निभाने के बाद अब ज्योतिरादित्य (jyotiraditya) को प्रमुख जिम्मेदारी दी गई है। दरअसल बंगाल चुनाव (bengal election) में ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) को शामिल किया गया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया को चौथे चरण के चुनाव के स्टार प्रचारकों (star campaigner) की लिस्ट में शामिल किया गया है। जिसके बाद जब बंगाल चुनाव में सिंधिया की एंट्री (entry) हो रही है।

दरअसल बीजेपी (bjp) ने चौथे चरण के चुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की है। जिस नेताओं को शामिल किया गया। इसमें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) के अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रमुखता दी गई है। बता दें कि इससे पहले बंगाल चुनाव को देखते हुए कैलाश विजयवर्गीय (kailash vijayvargiya) और शिवराज सिंह चौहान को स्टार प्रचारको की लिस्ट में शामिल किया गया था।

बता दे कि लगातार ज्योतिरादित्य सिंधिया को निशाना बनाते हुए कहा जा रहा था कि आखिर महाराज को बीजेपी ने बैकबेंचर बना कर रख दिया। बीजेपी में जाने के बाद ही महाराज भाईसाहब होकर रह गए हैं। यहां तक कि स्टार प्रचारकों की लिस्ट तक में उन्हें शामिल नहीं किया जा रहा है। जिसके बाद बीजेपी ने बंगाल के चौथे चरण के चुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की लिस्ट में सिंधिया को प्रमुखता से स्थान दिया है।

Read More: 1 अप्रैल से बदल जाएंगे यह सभी नियम, इन बैंकों के चेकबुक-पासबुक हो जाएंगे बेकार

माना जा रहा है कि स्टार प्रचारकों की लिस्ट में सिंधिया को जगह देने के साथ ही बीजेपी ने कांग्रेस को करारा जवाब दिया है। ज्ञात हो कि पिछले साल मध्यप्रदेश में आए सियासी भूचाल के पीछे ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने 28 समर्थकों के साथ कांग्रेस (coongress) छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे। इसी के साथ अल्पमत में आई कमलनाथ सरकार गिर गई थी और शिवराज सिंह चौहान की एक बार फिर से प्रदेश की सत्ता में वापसी हुई थी।

जिसके बाद चर्चा थी कि सिंधिया को केंद्र में मंत्री बनाया जा सकता है लेकिन उन्हें राज्यसभा सांसद पद बीजेपी की तरफ से दिया गया। वहीं सिंधिया को लेकर लगातार कांग्रेस हमलावर रही है। अब ऐसे में मध्यप्रदेश के बदलते चुनाव में बड़ी भूमिका अदा करने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया बंगाल की राजनीति में किस तरह उलटफेर कर सकते हैं। यह देखना दिलचस्प है।